डीएम के कार्यवाही के बाद प्राशिसं अध्यक्ष भी विद्यालय में आये नजर

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । प्राथमिक स्कूल में दूध में पानी मिलाने का मामला सामने आने के बाद यह साफ हो गया था कि स्कूल की बिल्डिंग तो चमका दी जा रही है लेकिन बिल्डिंग के अंदरखाने की कहानी ठीक नहीं है। मामला जब मीडिया में उछला तो जिला प्रशासन ही नहीं सूबे के मुखिया भी दंग रह गए और आनन-फानन में कार्यवाही कर दी गयी। मंत्री जी ने भी कड़ा बयान देकर साफ कर दिया कि कोई भी बक्क्षा नहीं जाएगा। शिक्षा विभाग में इतनी किरकिरी होने के बाद उम्मीद यह लगाई जा रही थी कि कुछ दिनों तक व्यवस्था ठीक रहेगा। मगर एक बार फिर शिक्षा विभाग की पोल सोमवार को जिलाधिकारी के निरीक्षण में खुल गयी। जिलाधिकारी के निरीक्षण में इस बार शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष ही फंस गए। जिलाधिकारी ने जब पूछना शुरू किया तो परत दर परत पोल खुलती गयी। जिसके बाद जिलाधिकारी ने प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष समेत एक अन्य शिक्षिका पर कार्यवाही के आदेश दे दिया। आज जब मीडिया की टीम स्कूल पहुँची तो वहाँ खाना लकड़ी पर ही बन रहा था। पूछने पर बताया गया कि गैस भरने के लिए गया है, कब तक भर जाएगा जानकारी नहीं। ठंड बढ़ गयी है इसलिए बच्चों को बाहर धूप में बिठाकर पढ़ाया जा रहा है। प्रशासन की कार्यवाही से नाराज अध्यापिका ने दबी जुबान से कहा कि जो बयान मीडिया के माध्यम से आया है, उन्होंने दिया ही नहीं है।

जिलाधिकारी के निरीक्षण व कार्यवाही के बाद इतना जरूर दिखा कि प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष भी अपने मूल विद्यालय के परिसर में मौजूद रहे।

बहरहाल पहली बार जिलाधिकारी की कार्यवाही के बाद लोगों में उम्मीद जगी है कि प्रशासनिक कार्यवाही के बाद स्थिति सुधरेगी और अध्यापक बच्चों को सही ढंग से पढ़ाएंगे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!