अपने मन और दिल को बच्चों की तरह साफ़ रखें,तब यह दुनिया आपके लिए होगी स्वर्ग


एक व्यक्ति ने अपने गुरु से पूछा मेरे कर्मचारी, मेरी पत्नी मेरे बच्चे और सभी दुनिया के लोग बहुत मतलबी हैं। कोई भी सही नहीं हैं क्या करूं, सभी को सिर्फ अपने से ही मतलब है। गुरु थोड़ा मुस्कुराए और उसे एक कहानी सुनाई।

गुरु ने बताया कि एक गांव में एक विशेष कमरा था, जिसमे हजारों शीशे लगे थे। एक छोटी लड़की उस कमरे में गई और खेलने लगी। उसने देखा कई हजार बच्चे उसके साथ खेल रहे हैं और वो उन प्रतिबिम्ब बच्चों के साथ खुश रहने लगी। बच्ची जब अपने हाथ ताली बजाती तो सभी बच्चे ताली बजाने लगते। उसने सोचा यह दुनिया की सबसे अच्छी जगह है, यहां वह सबसे ज्यादा खुश रहती है वो यहां बार बार आना चाहेगी।

थोड़ी देर बाद उसी कमरे में एक उदास आदमी कहीं से आया। उसने अपने चारों तरफ हजारों दुख से भरे चेहरे देखे। वह बहुत दुखी हुआ और उसने हाथ उठाकर सभी को धक्का लगाकर हटाना चाहा। अचानक उसने देखा कि हजारों हाथ उसे धक्का मार रहे हैं। उसने कहा यह दुनिया की सबसे खराब जगह है, वह यहां दोबारा कभी नहीं आएगा और वह चला गया।

गुरु ने बताया कि इसी तरह यह दुनिया भी एक कमरा है, जिसमें हजारों शीशे लगे हैं। जो कुछ भी हमारे अंदर भरा होता है वो ही प्रकृति हमें लौटा देती है। कहा, अपने मन और दिल को बच्चों की तरह साफ़ रखें तब यह दुनिया आपके लिए स्वर्ग की तरह ही है। जो व्यवहार खुद के लिए चाहते हो, वही दूसरों के साथ करो, नहीं तो अकेले रह जाओगे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!