ऐतिहासिक सिंदुरिया गांव के रामलीला का शुभारंभ, गांव में उत्सव जैसा माहौल

घनश्याम पांडे/विनीत शर्मा (संवाददाता)

चोपन । लगभग सौ वर्षों से चोपन के सिंदुरिया गांव में होने वाला रामलीला का शुभारंभ रविवार की रात हो गया । पांडे परिवार द्वारा आयोजित होने वाले श्रीराम लीला का शुभारंभ मुकुट पूजन से प्रारंभ हुआ । यह आयोजन मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की एकादशी गीता जयंती जो श्रीमद्भागवत पुराण का प्रतिकात्मक जन्मदिन भी है इसी दिन से प्रारंभ होकर श्री सीता विवाह तक चलेगा तथा 16 दिसंबर को ब्राह्मण भोज के बाद समाप्त होगा।
कड़ाके के ठंड के बीच शुरू होने वाले इस रामलीला की खास बात यह है कि इस रामलीला के सभी पात्र गांव के ही रहते हैं । गांव में अपने बाबा-दादा की चली आ रही परंपरा को अब उनकी नई पीढ़ी आगे बढ़ा रही है ।
गांव के लोग अपने अभिनय को जीवंत रूप देने के लिए महीनों से इसकी तैयारी भी करते हैं और वाकायदा ओरिजन पोषक पहनकर जब मैच संभालते हैं तो अच्छे लोग उन्हें पहचान नहीं पाते। सौ वर्षों से हर वर्ष होने वाली इस रामलीला की चर्चा दूरदराज के कई गांवों तक होती है और लोग रात इसे देखने के लिए पहुंचते हैं । इतना ही नहीं गांव से दूर कामकाज व नौकरी करने वाले लोग विशेष रूप से छुट्टी लेकर गांव पहुंचकर न सिर्फ इस रामलीला का लुफ्त उठाते हैं बल्कि गांव की परंपरा को जिंदा रखने में पूरी मदद भी करते हैं ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!