मोदी-योगी राज में विपक्षी नेताओं के लिए अंग्रेजों के जमाने की पुलिस बनी यूपी पुलिस : शशिकांत कुशवाहा

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । बाबरी मस्जिद विध्वंस करने वालों को कड़ी सजा दो की मांग पर भाकपा माले द्वारा देशव्यापी कार्यक्रम के तहत अपनी तैयारी कर रहे भाकपा (माले) राज्य स्थाई समिति सदस्य शशिकांत कुशवाहा, जिला सचिव शंकर कॉल को स्थानीय पुलिस ने भाकपा माले जिला कार्यालय से गिरफ्तार कर लिया था और उसी दिन उप जिलाधिकारी को ज्ञापन देने गए भाकपा (माले) के 5 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस पूरे घटना को लेकर आज भाकपा (माले) जिला कार्यालय पर एक बैठक आयोजित की गई। बैठक को सम्बोधित करते हुए भाकपा (माले) राज्य स्थाई समिति सदस्य शशिकांत कुशवाहा ने कहा कि मोदी-योगी राज में पुलिस विपक्षी पार्टी के नेताओं, कार्यकर्ताओं व आम जनता के साथ अंग्रेजों के जमाने की पुलिस की तरह व्यवहार कर रही है। सोनभद्र जिला प्रशासन गरीबों की आवाज को खामोश कर देना चाहता है। जिला प्रशासन यहां पर जल, जंगल, जमीन एवं आदिवासियों के पुश्तैनी अधिकार की लड़ाई को दबा एवं कुचल देना चाहता है। 6 दिसंबर को जिला मुख्यालय से भाकपा माले कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी भाजपा सरकार के इशारे पर हुई है, यह गिरफ्तारी एक राजनैतिक द्वेष से किया गया है। भाकपा माले कार्यकर्ताओं के साथ थाने में मारपीट एवं उत्पीड़नात्मक कार्यवाही की गई है।
भाकपा (माले) कार्यकर्ताओं ने अपने कार्यकर्ताओं को बगैर किसी शर्त के रिहा करने की मांग जिला प्रशासन से किया। जिला प्रशासन को चेतावनी हुए उन्होंने कहा कि यदि कार्यकर्ताओं की रिहाई नहीं होती है तो भाकपा (माले) आंदोलन करने को बाध्य होगी।

इस दौरान जिला सचिव शंकर कोल, लालती देवी, जवाहर खरवार, लाल जी भारती, जवाहर भारती, बिजली, गुड़िया समेत भारी संख्या में भाकपा (माले) के कार्यकर्ता मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!