राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के संबंध में आवश्यक बैठक सम्पन्न

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । राष्ट्रीय वेक्टर रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत केंद्र सरकार ने देश को फाइलेरिया रोग (हाथी पांव) से मुक्त करने के लिए 2020 का लक्ष्य रखा है। इसी क्रम में आज मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 शशिकांत उपाध्याय की अध्यक्षता में फाइलेरिया उन्मूलन के तैयारियों के संबंध में एक एक आवश्यक बैठक आयोजित की गई। मुख्य चिकित्साधिकारी ने बैठक में राष्ट्रीय फाइलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत उपस्थित अधिकारियों को फरवरी-2020 में आयोजित एम0डी0ए0-2020 के सम्बंध में आवश्यक तैयारी करने हेतु आदेशित किया। सीएमओ ने जिला मलेरिया अधिकारी को माइक्रो प्लान बनाने तथा जिला समन्वय समिति की बैठक ससमय आयोजित कराने के लिए भी आदेशित किया।

इस दौरान जिला मलेरिया अधिकारी डी0एन0श्रीवास्तव ने बताया कि “आगामी वर्ष के फरवरी माह में जिले के प्रत्येक व्यक्ति (2वर्ष से कम उम्र के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को छोड़कर) को घर-घर जाकर फाइलेरिया की दवा खिलायी जाएगी।”

लखनऊ से कार्यक्रम की ट्रेनिंग लेकर लौटे वी0बी0डी0 कंसल्टेंट शुभम सिंह ने कार्यक्रम के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि “सभी स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर 2वर्ष से कम उम्र के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों को दवा खिलाएंगे। दवा खिलाने के बाद प्रत्येक व्यक्ति की ऊँगली पर मार्कर से निशान लगाया जाएगा। उन्होंने आगाह करते हुए कहा कि किसी भी परिस्थिति में दवा घर में देकर नहीं आना है। इस अभियान को सफल संचालन हेतु माइक्रो प्लान बनाकर ड्रग एडमिस्ट्रेटर के माध्यम से दवा खिलाई जाएगी।”

इस दौरान जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ0 बी0के0अग्रवाल, एमओआईसी केकराही डॉ0 राम कुँवर, अपर चिकित्साधिकारी डॉ0 प्रेमनाथ, डॉ0 संजय सिंह, डीएमओ रिपुञ्जय श्रीवास्तव, वीबीडी कंसल्टेंट शुभम सिंह मौजूद रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!