जानिए क्यों होता है पीठ दर्द और जी मचलना एक साथ

पीठ दर्द बहुत आम समस्या है। लगातार एक जैसे बैठकर काम करने वालों के लिए तो यह जैसे रोज की समस्या है लेकिन कई बार यह गंभीर भी हो जाती है। कई बार व्यक्ति को पीठ दर्द के साथ जी मचलाता है। जब दोनों समस्याएं एक साथ हों और लगातार हो तो यह दर्द पाचन या आंतों की समस्या का संकेत हो सकता है। पेट की यह दिक्कत पीठ तक पहुंच जाती है। उल्टियां भी दर्द बढ़ाती हैं और पीठ में खिंचाव महसूस होता है। जब दर्द पेट की वजह से पीठ तक पहुंचता है तो यह लिवर (यकृत) या गुर्दे (किडनी) जैसे अंगों की समस्या का संकेत देता है।

इन कारणों से होता है पीठ दर्द और जी मचलना:
गैस्ट्रोएंटेराइटिस संक्रमण पेट में दर्द और सूजन का कारण बनता है। कई अलग-अलग तरह के संक्रमण गैस्ट्रोएंटेराइटिस का कारण बन सकते हैं, जिसमें नोरोवायरस और खाने से होने वाली बीमारियां जैसे साल्मोनेला शामिल हैं। गैस्ट्रोएंटेराइटिस से पीड़ित व्यक्ति को पेट में तेजी से ऐंठन का अनुभव हो सकता है जो पीठ तक जा सकता है। कभी-कभी यह स्थिति ऐसी हो सकती है कि व्यक्ति का जी मचलाने लगता है और उल्टी भी हो सकती है। यह बार-बार हो सकता है जिससे पेट और पीठ की मांसपेशियों में दर्द हो जाता है।

कुछ घरेलू उपचारों में आहार को सीमित करना, उल्टी को कम करने के लिए आसानी से पचने वाले खाद्य पदार्थ लें और शरीर में पानी की कमी को रोकने के लिए खूब सारा पानी पीना शामिल है। गैस्ट्रोएंटेराइटिस आमतौर पर अपने आप ही ठीक हो जाता है, लेकिन किसी व्यक्ति को इलाज की जरूरत हो सकती है। यह उन लोगों के लिए जरूरी हो सकता है जो खाना नहीं खा पा रहे, शरीर में पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) का लक्षण नजर आए और 24 घंटे से ज्यादा समय तक उल्टी जारी रहे। अन्य स्थितियां भी हैं जिसमें पीठ दर्द और जी मचलना शामिल हो सकता है। वे हैं पथरी, पैन्क्रीएटाइटिस, पित्ताशय की पथरी, किडनी स्टोन, माहवरी के दौरान दर्द।

लिवर का स्वास्थ्य:
लिवर की बीमारी भी जी मचलने और पीठ दर्द का कारण बन सकती है। ज्यादातर मामलों में, दर्द पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में शुरू होता है और फिर पीठ तक जाता है। सिरोसिस और लिवर कैंसर जैसी लिवर की स्थिति में दर्द हो सकता है जो कई महीनों तक लगातार होता है। इसके विपरीत गालब्लेडर (पित्ताशय की थैली) की बीमारी दर्द का कारण बन सकता है जो धीरे-धीरे और खराब हो जाता है। पित्ताशय की थैली पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में, लिवर के नीचे होती है। एक पित्ताशय की थैली पर प्रभाव पड़ने पर व्यक्ति के ऊपरी पेट में तेज दर्द हो सकता है। यह स्थिति खाने के बाद हो सकती है। लिवर की समस्याओं का इलाज घर पर करना सही नहीं है। इन लक्षणों को देखकर किसी अच्छे डॉक्टरों को दिखाना जरूरी है।

पैन्क्रीएटाइटिस (अग्नाशयशोथ)
यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें अग्न्याशय सूज जाता है। यह जीर्ण या तीव्र हो सकता है। तीव्र पैन्क्रीएटाइटिस अचानक जी मचलने का कारण बन सकता है, साथ ही ऊपरी पेट में दर्द जो पीठ की तरफ जाता है। अन्य लक्षणों में सूजन, तेज धड़कता दिल, बुखार, हल्के रंग का मल निकलना शामिल है। यह एक गंभीर और खतरनाक बीमारी है। इसके लक्षणों वाले व्यक्ति को घर पर उनका इलाज करने का प्रयास नहीं करना चाहिए। उन्हें आपातकालीन चिकित्सा की जरूरत है।

किडनी स्टोन्स या इन्फेक्शन
पीठ के बीच के हिस्से के दोनों ओर गुर्दे (किडनियां) होते हैं। इस जगह दर्द होना, खासकर अगर यह सिर्फ एक तरफ है, तो गुर्दे की पथरी या गुर्दे के संक्रमण (किडनियों में इन्फेक्शन) का संकेत हो सकता है। व्यक्ति को जी मचलाने का अनुभव भी हो सकता है, और उन्हें दर्द हो सकता है।
कई बार गुर्दे की पथरी अपने आप गल जाती है, लेकिन यह बात स्पष्ट करने के लिए भी डॉक्टर की सलाह की जरूरत होती है।
गुर्दे का संक्रमण बहुत गंभीर अवस्था है और शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल सकता है। गुर्दे के संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति को बुखार हो सकता है, पेशाब जाने में परेशानी या दर्द का अनुभव हो सकता है।

अल्सर:
अल्सर गैस्ट्रोइन्टेस्टनल प्रणाली की झिल्ली का टूटना है। यह पेट, आंतों या अन्य पाचन अंगों में दिखाई दे सकता है। इन घावों से खून बह सकता है और तेज दर्द हो सकता है, खासकर खाना खाने के बाद।
अल्सर वाले कुछ लोग खाने के बाद जी मचलने की शिकायत और दर्द का अनुभव करते हैं। अल्सर के दर्द को कम करने के लिए लोग एंटासिड ले सकते हैं, आहार में परिवर्तन और खाना खाने के बाद स्थिति में बदलाव कर सकते हैं।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!