केंद्र सरकार द्वारा एनटीपीसी को निजीकरण किए जाने का कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन

मुकेश अग्रवाल(संवाददाता)

बीजपुर। एनटीपीसी रिहंद परियोजना परिसर स्थित शुक्रवार की सायं प्रगति स्तंभ पर नेफी के बैनर तले एनटीपीसी के कर्मचारियों ने केंद्र सरकार द्वारा एन टी पी सी को निजीकरण किए जाने का जबरदस्त विरोध किया । संगठनों के पदाधिकारी एवं कर्मियों ने प्रगति स्तंभ से बीजपुर स्वागत द्वार गेट तक कैंडल मार्च निकाला और यह संदेश दिया कि अगर सरकार एनटीपीसी जैसी महारत्न कंपनी को निजी हाथों में सौंपेगी तो हम सभी यूनियन के लोग ईट से ईट बजा देंगे अभी हम लोग शांति पूर्वक अपने मांग को सभा एवं कैंडल मार्च निकालकर शुक्रवार को आगाह कर रहे है कि अपनी मंशा बदले ले । अगर इसका रिजल्ट नही मिला तो हम सभी एनटीपीसी के कर्मचारी ऑफिसर एसोसिएशन के बैनर तले नेफी के नेतृत्व में यहां से लेकर केंद्रीय कारपोरेट तक लड़ाई लड़ेंगे ।

प्रगति स्तंभ पर सभा को संबोधित करते हुए इंटक के महासचिव आर के मिश्रा ने कहा कि सरकार की यह नीति सफल नही होने देंगे मुकेश कुमार व अन्य साथियों ने भी अपने-अपने विचार को व्यक्त कर सभा के सम्बोधित किया। इसके पश्चात सभी एकजुट होकर प्रगति स्तंभ से नारेबाजी करते हुए स्वागत गेट तक कैंडल मार्च निकाला सभी ने कहा कि केंद्र सरकार हम लोगों के खून पसीने से बनी यह एनटीपीसी लगातार सर्वाधिक लाभ देती रही है और विद्युत क्षेत्र में अग्रणी रही है हमेशा श्रमिक इस महारत्न कंपनी को बनाने के लिए खून पसीना सींचा हैं। हम लोग इसको निजी हाथों में सौंपने नहीं देंगे कड़े विरोध जताकर जमकर नारेबाजी किया गया।

सभी ने कहा की केंद्र सरकार अगर अपने अड़ियल रवैया से पीछे नहीं हटेगी तो हम लोग इसका पुरजोर विरोध करेंगे और एनटीपीसी महारत्न कंपनी को निजी हाथों में नहीं जाने देंगे।इस मौके पर आर डी दुबे,विजय शंकर उपाध्याय,जे पी पांडेय,आर बी सिंह,टी एन सिंह,मुकेश कुमार सहित भारी संख्या में मौजूद रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!