वेतन विसंगति की मांग लेकर स्थानीय यूपीएल रिहन्द ऑफिस पर श्रमिकों और कर्मचारियों में हुई बहस

मुकेश अग्रवाल(संवाददाता)

बीजपुर। गुरुवार को वेतन विसंगति की मांग लेकर स्थानीय यूपीएल रिहन्द ऑफिस पर श्रमिकों और कर्मचारियों में बहस हुई इसके पश्चात वाद बिवाद से तनाव बढ़ गया। मामला बढ़ता देख यू पी एल के अधिकारियो ने स्थानीय पुलिस को सूचित किया मौके पर पहुंची पुलिस दोनों पक्षों से बातचीत कर 20 दिन का समय लेकर हल कराने का आस्वासन दिया तब श्रमिक मान गए।

बहुजन संविदा श्रमिक संगठन के पदाधिकारी ईश्वर प्रसाद, चंद्र कुमार सिंह, राम पदारथ आदि ने बताया कि श्रमिकों का पिछले वर्ष का बोनस एवं कुछ दिनों से मजदूरी का भुगतान नहीं किया जा रहा है इस मुद्दे को लेकर जब हम लोग यू पी एल ऑफिस के संबंधित अधिकारियों से बातचीत कर ही रहे थे कि श्रमिक समस्या सुनने की बजाय सम्बन्धित अधिकारी हम लोगों से हाथापाई पर उतारू हो गए इतने में सारे श्रमिक आक्रोशित हो अधिकारी के विरुद्ध लामबंद होकर प्रदर्शन करने लगे।

मामला बढ़ता देख यूपीएल के अधिकारियों ने स्थानीय पुलिस को सूचित किया मौके पर पहुंची पुलिस मामले को समझा-बुझाकर 20 दिन के अंदर मामले को हल कराने का आश्वासन दिया तब जाकर श्रमिक शांत हुए श्रमिको का कहना है कि जब हम लोग अपनी मांग को रखते हैं तो यह अधिकारी अनसुना कर देते हैं हम सब स्थानीय विस्थापित गरीब मजदूर अपनी रोजी-रोटी इसी के सहारे चलाते है समय से भुगतान नहीं होने पर समस्या खड़ी हो जाती है। इसके पूर्व भी हम लोगों ने पत्र देकर यूपीएल के आर यम से समय से भुगतान कराने और पिछले वर्ष के कटे बोनस को दिलवाए जाने के लिए कहा था लेकिन आज तक उसकी सुनवाई नहीं हुई और जब हम लोग अपनी बात को लेकर जाते हैं तब यह अधिकारी श्रमिकों को अपमानित कर काम से निकाल देने की धमकी देते हैं इसलिए आज एकजुट होकर हम लोगों ने मामले के निस्तारण को लेकर एकजुट हुए।
इस बाबत जब यूपीएल के आर यम ए के श्रीवास्तव से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि इन विस्थापित श्रमिकों को छोटे-छोटे कार्यों में लगाया गया है इनका जीएसटीएन ना होने के कारण थोड़ी दिक्कतें आ रही है इसके लिए उच्च प्रबंधन से बातचीत कर हल कराने के लिए बातचीत किया जा रहा है जल्द ही इसका निस्तारण कर लिया जाएगा


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!