DHFL घोटाले में आरोपी सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को पुलिस रिमांड पर ली

■ कोर्ट में पेश किए गए अयोध्या प्रसाद मिश्रा

■ कल से 3 दिन की रिमांड मिली

■ शक्ति भवन में पीएफ घोटाले को लेकर कर्मचारियों का प्रदर्शन

■ प्रमुख सचिव आलोक कुमार के खिलाफ कर रहे नारेबाजी

■ आलोक कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कर रहे मांग मांग पूरी ना होने तक धरने पर बिजली कर्मचारी

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन के एक लाख से अधिक कर्मचारियों और पेंशनरों के सामान्य भविष्य निधि और अंशदायी भविष्य निधि (पेंशन) के 2267.90 करोड़ रुपये दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) में फंस गए हैं। कर्मचारियों और विपक्षी नेताओं ने यह मुद्दा उठाया तो सरकार ने शनिवार को कई कार्रवाइयां कीं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच कराने और इसके लिए जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं।
इस बीच मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिये गये हैं। इसके साथ ही पूरे प्रकरण की जांच शुरू करा दी शनिवार को सरकार ने इस मामले में प्राथिमकी दर्ज कराई, जिसके बाद प्रवीण कुमार गुप्ता के साथ ही सुधांशु द्विवेदी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।
DHFL घोटाले में आरोपी सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को 3 दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड पर भेजा गया।
पूर्व एमडी पावर कॉरपोरेशन एपी मिश्रा कोर्ट में पेश
हजरतगंज पुलिस मिश्रा को लेकर पहुंची । DHFL घोटाले में आरोपी सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को 3 दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड पर भेजा गया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!