जिलाधिकारी ने विकास कार्यो का किया समीक्षा

अबुलकैश डब्बल

चन्दौली। जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल विभागीय अधिकारियों के साथ कलेक्टेªट सभागार में विकास कार्यो की समीक्षा बैठक की। बैठक के दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी को सख्त निदेर्शित करते हुये कहा कि चिकित्सालयों का निरीक्षण, डाक्टरों की उपस्थिति का नियमित निरीक्षण सुनिश्चित हो, अनुपस्थितों का वेतन काटने के साथ ही अनुशासनात्मक कार्यवाही भी किया जाय, निरीक्षण गुणवत्ता परक करने के निर्देश दिये। साथ ही कहा कि निरीक्षण सकारात्मक ढंग से किये जाय। हेल्थ एवं वेलनेस सेन्टर के निर्माण कार्य में अपेक्षित प्रगति नही होने पर जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी के प्रति गहरी नाराजगी व्यक्त की, सुधार लाने की कड़ी चेतावनी जाहिर की। निर्माण एजेंसी पी0डब्लू0डी0 एवं आरईएस किसी भी दशा में मानक से अनुरूप 30 नवम्बर, 2019 तक सभी वेलनेस सेन्टर बनकर तैयार हो जाने चाहिए। दवाओं की उपलब्धता शत-प्रतिशत हो, डाक्टर मरीजों को बाहर की दवा किसी भी दशा में न लिखे। प्रत्येक विकास खण्ड के पाॅच-पाॅच हेल्थ सेन्टरों को एक्रेडिट सेन्टर बनाये जाने के निर्देश दिये। सभी पीएचसी एवं सीएचसी में बायोमेट्रिक उपस्थिति सुनिश्चित हो। बाल विकास व स्वास्थ्य विभाग आपस में समन्वय नही होने पर जिलाधिकारी ने गहरा असंन्तोष व्यक्त करते हुये आपसी समन्वय बनाकर विभागीय कार्य करने के कड़े निर्देश दिये, साथ ही मुख्य विकास अधिकारी को मानिटरिंग किये जाने के निर्देश दिये। स्वास्थ्य केन्द्रों पर एएनएम की उपस्थिति सुनिश्चित हो। वृद्धा, विधवा एवं द्विव्यांग पेंशन शत प्रतिशत पात्र लाभार्थियों की स्वीकृत अविलम्ब कराने के निर्देश दिये। कन्या सुमगला योजना में प्रभावी ढंग से कार्यवाही किये जाने के निर्देश महिला कल्याण विभाग एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी एवं जिला विद्यालय निरीक्षक को दिये। मुख्यमंत्री समग्र ग्रामों में अवशेष कार्यो को तत्परतापूर्वक पूर्ण कराकर संतृप्तीकरण की कार्यवाही करा लिया जाय।
प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत निर्मित हो रहे आवासों को समयसीमा के अन्तर्गत पूर्ण करायें। किसी भी दशा में अपात्रों का चयन न हो। सभी कार्यदायी एजेसियों को सख्त निर्देश देते हुये कहा कि जनपद में निर्माणधीन परियोजनाओं को अतिरिक्त प्रयास करते हुए समय से पूर्ण कराये, गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाय। लेट-लतीफी कत्तई बर्दास्त नही की जायेगी। जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को सख्त निर्देश दिये कि किसी कोटेदारों की मनमानी हरगीस न चले अन्यथा स्वंय जिम्मेदार होगें। इसके साथ वितरण के दौरान पात्र व्यक्तियों से राशन समय-समय पर मिलता है या नही। हिलाहवाली करने वाले कोटेदारों के खिलाफ सख्त कार्यवाही के साथ लाइसेंन्स निरस्त करने के निर्देश दिये।

बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी डा0 एके श्रीवास्तव, जिला विकास अधिकारी पदम्कान्त शुक्ल, डीसी मनरेगा, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, अधिशासी अभियन्ता विद्युत, निर्माण खण्ड, अधिशासी अभियन्ता जल निगम, जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला मत्स्य अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थें।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!