आस्था का प्रतीक है दो नदियों के संगम पर बना सुर्य मंदिर

धर्मेन्द्र गुप्ता(संवाददाता)

विण्ढमगज(सोनभद्र)। सततवाहिनी नदी व कुकुर डूबा नदी के किनारे स्थापित सुर्य मंदिर सोनभद्र सहित झारखंड बिहार छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों के भक्ति विश्वास का प्रतीक है। यहां पर दूरदराज से लोग छठ महापर्व करने के लिए आते हैं। ऐसी मान्यता है कि दो नदियों के संगम स्थल पर छठ महापर्व करने से मनोकामना पूर्ण होती है।
उत्तर प्रदेश झारखंड को विभाजित करने वाले सतत वाहिनी नदी के संगम तट पर स्थित सूर्य मंदिर की महिमा अपार है। यहां पर पूरे साल भक्तों का ताता लगा रहता है। जिले का सबसे प्राचीन यह सूर्य मंदिर है यहां हर साल कई प्रांत के लोग छठ महापर्व करने के लिए दूर-दूर से आते हैं। जब यह इलाका घनघोर जंगल था तब से ही यहां पर छठ महापर्व होते आ रहा है।

1902 इसवी में जब अंग्रेज अधिकारी विंडम साहब ने विण्ढमगंज नगर को बसाया था तब बिहार के पटना साइड के काफी लोग विंढमगंज आए और यहीं पर बस गए उसी समय से यहां पर छठ पर भी यहां लोग करते आ रहे है। डीहवार बाबा के प्रांगण में जब राम मंदिर का निर्माण हुआ तो राम मंदिर में ही भगवान सुर्य की एक छोटी मूर्ति स्थापित कर दी गई। बाद में सन क्लब सोसायटी ने संगम स्थल पर एक विशाल सूर्य मंदिर का निर्माण कराया सुर्य मंदिर का निर्माण सन क्लब के लोगों ने श्रमदान करते हुए और एक ₹1 का चंदा लेकर कराया। तब से कई प्रांत के हजारों लोग छठ महापर्व पर विण्ढमगंज में जुटते हैं तथा चार दिवसीय इस महापर्व पूरे विधि विधान से लोग करते हैं।

– छठ घाट को सजाने की व्यवस्था तेज स्थानीय उत्तर प्रदेश व झारखंड बॉर्डर को विभक्त करने वाली सततवाहिनी नदी के तट पर स्थित सन क्लब सोसाइटी के द्वारा स्थानीय लोगों के सहयोग से निर्मित विशाल सूर्य मंदिर के ठीक सामने भारतीय इंटरमीडिएट कालेज के खेल मैदान से सटा नदी पर बने छठ घाट की साफ-सफाई सन क्लब सोसायटी के पदाधिकारियों के द्वारा तीव्र गति से कराया जा रहा है। बताते चलें कि बीते तीन दशक से विंढमगंज का छठ घाट पर छठ महापर्व पर लगने वाला विशाल मेला जिले का सर्वोत्तम मेला का रूप ले लिया है। सन क्लब सोसायटी के अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता ने बताया कि स्थानीय व्यापारी के आर्थिक सहयोग करने वाले दाताओं के मदद से आज विंढमगंज में लगने वाला छठ महापर्व पर मेला सोनभद्र का प्रथम स्थान होता चला जा रहा है। इस पर्व को लेकर इलाके में रह रहे लोग अपने अपने घरों के पास की गली रोड को साथ सफाई करने में लगे हुए हैं।

सन क्लब सोसायटी के संरक्षक रमेश चंद एडवोकेट ने बताया कि छठ महापर्व पर इस वर्ष क्लब के द्वारा इलाके में स्थापित प्राइमरी विद्यालय ,उच्च प्राइमरी विद्यालय व प्राइवेट विद्यालयों के छात्र छात्राओं के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति जोरदार तरीके से कराई जा रही है तथा विंढमगंज टैलेंट शो के तहत भी इलाके सहित झारखंड, रेणुकूट, दुद्धी, कोन के दर्जनों कलाकार प्रतिभागी कर रहे हैं। पूरा कार्यक्रम पूरी रात छठ घाट स्थल पर बना मंच से कलाओं का प्रदर्शन किया जाएगा। सारे कार्यक्रम को संपन्न कराने के लिए विशाल टेंट की व्यवस्था की गई है तथा छठ व्रत करने वाली माताओं के लिए भी लगभग 180 टेंट का पंडाल बनाया गया है तथा पूरी रात छठ घाट पर रहने वाले लोगों के लिए अलाव की भी व्यवस्था क्लब के द्वारा किया गया है। छठ घाट की भी सफाई अंतिम दौर पर पहुंच रहा है। पूरे कार्यक्रम को संपन्न कराने के लिए रविंद्र जायसवाल, संजय कुमार गुप्ता, धर्मेंद्र कुमार गुप्ता, विकास कुमार जायसवाल, विकास कुमार गुप्ता ,सुरेंद्र कुमार, डीसी मद्धेशिया, राजकमल मद्धेशिया सहित लगभग दो दर्जन क्लब के सदस्य लगे हुए हैं।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!