रात 8 बजे से 10 तक ही छोड़े जा सकेंगे पटाखे

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आयुध अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश शासन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन अनुभाग-6 के निर्देशानुसार दीपावली के अवसर पर पटाखों आदि के प्रयोग से होने वाले वायु एवं ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण हेतु रिट याचिका संख्या-728/2015, अर्जुन गोपाल व अन्य बनाम यूनियन ऑफ इण्डिया में पारित निर्णय 23 अक्टूबर, 2019 के अनुपालन में दीपावली व अन्य पर्वों के दौरान पटाखों के उत्पादन, भण्डारण, बिक्री एवं प्रयोग के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं।
उन्होंने बताया कि दीपावली पर्व के दौरान कम वायु प्रदूषण/ग्रीन पटाखों का ही प्रयोग किया जाय। सीरीज युक्त पटाखों/लडि़यों का प्रयोग प्रतिबन्धित है। पटाखों का प्रयोग रात्रि 8.00 बजे से रात्रि 10.00 बजे तक ही किया जायेगा। पटाखों के प्रयोग के लिए सम्पूर्ण जनपद क्षेत्र में सामुदायिक क्षेत्र का निर्धारण किया जाये तथा अन्य क्षेत्रों में पर्व के दौरान पटाखों के प्रयोग हेतु सामुदायिक क्षेत्र निर्धारण की सम्भावनाएँ तलाश की जाएंगी। पटाखों की बिक्री लाइसेन्सधारी विक्रेताओं द्वारा ही की जाएँगी। ई-कॉमर्स बेबसाइट फ्लीपकार्ट, अमेजन आदि पर पटाखों की ऑनलाइन बिक्री प्रतिबन्धित है। पटाखों के प्रयोग से होने वाले दुष्प्रभावों को कम करने हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार कराय जाये। मा0 सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदेशों में स्पष्ट किया गया है कि पटाखों का प्रयोग अनुमन्य समयावधि एवं स्थल पर नहीं किये जाने की स्थिति में सम्बन्धित स्टेशन हाउस आफिसर उत्तरदायी होंगें। पटाखों के फटने के स्थान से 04 मीटर की दूरी पर 125 डी0बी0(ए0आई0) अथवा 145 डी0बी0(सी0) पी0 से अधिक ध्वनि तीव्रता उत्पन्न करने वाले पटाखों का उत्पादन एवं विक्रय निशिद्ध रहेगा। शान्त क्षेत्र में किसी भी समय पटाखें नहीं छोड़े जायेंगें। शान्त क्षेत्र अस्पताल, शैक्षिक क्षेत्र, न्यायालय क्षेत्र से 100 मीटर की परिधि का क्षेत्रफल होगा। जिलाधिकारी द्वारा इसे कड़ाई से अनुपालन सुनिनिश्चित किये जाने के लिए निर्देशित किया गया है। निर्देशों का बिन्दुवार अनुपालन सुनिश्चित किया जाय। उक्त जानकारी सूचना विभाग के नेसार अहमद ने दी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!