Amazon डिलीवरी ब्वॉय पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला का यूटर्न

सांकेतिक तस्वीर

दिल्ली से सटे यूपी के नोएडा में ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट Amazon (अमेजन) के डिलीवरी ब्वॉय पर हिप्नोटाइज कर रेप करने की कोशिश के मामले में नया मोड़ आ गया है. अब पीड़ित महिला ने इस मामले में केस वापस लेने की इच्छा जताई है और कहा है कि डिलीवरी ब्वॉय के खिलाफ उसने नहीं बल्कि उसकी बहन ने केस दर्ज कराया था.

दरअसल तीन दिन पहले अमेजन के डिलीवरी ब्वॉय के खिलाफ रेप की कोशिश का मामला दर्ज कराए जाने के बाद जब नोएडा पुलिस ने पीड़ित महिला को पूछताछ के लिए बुलाया तो उसने यू टर्न लेते हुए केस वापस लेने की बात की और पुलिस के किसी भी सवाल का जवाब नहीं दिया. इस मामले को लेकर नोएडा के एसपी विनीत जायसवाल ने बताया कि शिकायत के बाद अब महिला केस वापस लेना चाहती है.

 हिप्नोटाइज कर रेप की कोशिश का था आरोप

नोएडा की रहने वाली पीड़ित महिला ने तीन दिन पहले ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट Amazon से कुछ सामान खरीदा था जिसे बाद में उसने लौटाने के लिए रिक्वेस्ट (वापस करने की अर्जी) डाली थी. सोमवार की सुबह करीब 11 बजकर 20 मिनट पर अमेजन की तरफ से डिलीवरी ब्वॉय सामान वापस लेने महिला के घर पहुंचा.

महिला के मुताबिक वो डिलीवरी ब्वॉय को पांच पैकेट वापस करना चाहती थी जबकि वो सिर्फ चार पैकेट लेने को राजी हुआ. इस बात को लेकर दोनों के बीच कहासुनी हो गई और डिलीवरी ब्वॉय भूपेंद्र वहां से वापस चला गया.

इसके थोड़ी देर बाद ही भूपेंद्र फिर वापस आया और पांचों पैकेट ले जाने को तैयार हो गया जिस पर महिला ने सामान देने से इनकार कर दिया.

इसी बातचीत के दौरान महिला के मुताबिक वो हिप्नोटाइज होकर बेहोश हो गई और जब उसे होश आया तो उसने खुद को आरोपी डिलीवरी ब्वॉय के साथ बाथरूम में पाया. महिला के मुताबिक आरोपी डिलीवरी ब्वॉय भूपेश उस वक्त अर्ध नग्न उसके सामने खड़ा था जिसे देखकर वो बुरी तरह डर गई और वहीं पास रखे वाइपर से उसे पीटना शुरू कर दिया.

डिलीवरी ब्वॉय ने लगाया था फंसाने का आरोप

महिला के आरोपों के मुताबिक इसके बाद आरोपी डिलीवरी ब्वॉय मौके से फरार हो गया, जिसके बाद उसने पुलिस से इसकी शिकायत की. पीड़ित महिला के आरोप पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया और आरोपी डिलीवरी ब्वॉय को पूछताछ के लिए थाना बुलाया.

पुलिस के बुलावे पर डिलीवरी ब्वॉय थाने पहुंचा और उसने अपना बयान दर्ज करवाया. जिसमें उसने बताया कि महिला की बात नहीं मानने पर वह उसे झूठे केस में फंसा रही है. कोई ठोस सबूत नहीं मिलने के कारण पुलिस ने भी आरोपी डिलीवरी ब्वॉय को गिरफ्तार नहीं किया.

कंपनी ने दिया था कार्रवाई का भरोसा

वहीं इस मामले को लेकर अमेजन कंपनी की तरफ से कहा गया था कि आरोपी डिलीवरी ब्वॉय उसका नहीं बल्कि किसी थर्ड पार्टी सर्विस प्रोवाइडर का कर्मचारी था. कंपनी की तरफ से कहा गया कि वो डिलीवरी सर्विस प्रोवाइडर के खिलाफ कार्रवाई भी करेगा और इस मामले में पुलिस जांच में पूरी मदद भी दी जाएगी.


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!