सुप्रीम कोर्ट में मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ काटे जाने के मामले में मुंबई मेट्रो ने पेड़ लगाने का किया दावा

सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ काटे जाने के मसले पर सुनवाई होनी है। यहां मुंबई मेट्रो के एक प्रोजेक्ट के लिए करीब 2500 पेड़ काटे जा रहे हैं, लेकिन इसका पुरजोर विरोध हो रहा है। अदालत में सुनवाई से पहले मुंबई मेट्रो की ओर से दावा किया गया है कि उन्होंने मुंबई में करीब 24 हजार पेड़ लगाए हैं, जिनका लगातार ध्यान भी रखा जा रहा है ।

मुंबई मेट्रो-3 के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई है । ट्वीट में लिखा है कि हमने जो वादा किया था उसे पूरा किया है । मुंबई मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने मुंबई शहर में 24 हजार पेड़ लगाए हैं, इनमें आरे मिल्क कॉलोनी भी शामिल है ।

इस दौरान मेट्रो की ओर से कदंब, बेहडा समेत कई प्रजाति के पेड़ लगाए गए हैं, जिसमें 6-12 इंच, 12-15 इंच लंबाई की पौध शामिल हैं. दो साल की मेहनत अब रंग ला रही है ।

कौन कर रहा है प्रदर्शन?

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में आरे में 2500 से अधिक पेड़ काटे जाने के खिलाफ याचिका दायर की गई है, हालांकि जब ये याचिका दायर की गई है तब तक अधिकतम पेड़ कट गए हैं । बॉम्बे हाईकोर्ट ने इन पेड़ों को जंगल मानने से इनकार कर दिया था ।

मुंबई में मेट्रो प्रोजेक्ट के खिलाफ लगातार प्रदर्शन हो रहा है, आम लोगों से लेकर बॉलीवुड की सेलेब्रिटी तक तो वहीं राजनेता भी इस प्रदर्शन में शामिल हैं । हर किसी का यही कहना है कि मेट्रो प्रोजेक्ट के नाम पर इस तरह प्रकृति को नुकसान नहीं पहुंचाया जा सकता है । आरे कॉलोनी के पेड़ों को मुंबई का फेफड़ा माना जाता है ।

पेड़ काटे जाने के खिलाफ दीया मिर्जा, फरहान अख्तर समेत कई सेलेब्रिटी ट्वीट कर चुके हैं, तो वहीं शिवसेना के आदित्य ठाकरे इस मसले पर लगातार अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!