इमरान खान के बयान पर आरएसएस ने किया पलटवार, कहा- आरएसएस केवल भारत में है, दुनिया में कहीं कोई ब्रांच नहीं

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन के दौरान कश्‍मीर मुद्दा जोरशोर से उठाया तो भारत के खिलाफ जमकर आग उगली। कश्‍मीर पर दुनिया के देशों का साथ नहीं मिलने से पहले से ही बौखलाए इमरान खान ने इस दौरान खूब अपनी भड़ास निकाली और कांग्रेस पार्टी के साथ-साथ राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) का भी जिक्र किया। उन्‍होंने यह आरोप भी लगाया कि आरएसएस के शिविरों में आतंकियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। इमरान खान के इस बयान पर अब आरएसएस ने पलटवार किया है।

आरएसएस पदाधिकारी डॉ. कृष्‍ण गोपाल शर्मा ने इमरान खान की टिप्‍पणी पर पलटवार करते हुए कहा कि आरएसएस केवल भारत में है और इसका दुनिया में कहीं कोई ब्रांच नहीं है। उन्‍होंने यह भी कहा कि भारत और आरएसएस आज एक-दूसरे के पर्याय बन गए हैं और इसलिए यदि पाकिस्‍तान की नाराजगी आरएसएस से है तो जाहिर तौर पर वह भारत से नाराज है। उन्‍होंने यह भी कहा कि दुनिया को अब भारत और आरएसएस को एक ही चश्‍मे से देखना चाहिए।

उनकी यह प्रतिक्रिया इमरान खान की उस टिप्‍पणी पर आई है, जिसमें उन्‍होंने शुक्रवार को संयुक्‍त राष्‍ट्र में अपने संबोधन के दौरान कहा, ‘पिछली सरकार में कांग्रेस के गृह मंत्री ने बयान दिया था कि आरएसएस के शिविरों में आतंकवादियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।’ उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला और कहा कि वह आरएसएस के आजीवन सदस्‍य हैं, जबकि इस संगठन की विचारधारा बेहद ‘खतरनाक’ है। उन्‍होंने यह भी कहा कि यह संगठन हिटलर और मुसोलीनी जैसे तानाशाहों को अपना आदर्श मानता है।

यहां उल्‍लेखनीय है कि भारत में कई राजनीतिक दल आरएसएस पर खुले तौर पर निशाना साधते रहे हैं। उनका आरोप है कि यह संगठन देश के लोगों में विभाजन पैदा कर रहा है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी आरएसएस के खिलाफ खुलकर बोलते रहे हैं। कई वामपंथी पार्टियों के नेता भी आरएसएस के खिलाफ टिप्‍पणी करते रहे हैं और इमरान खान ने संयुक्‍त राष्‍ट्र में अपने संबोधन के दौरान इन सबको हथियार के तौर पर इस्‍तेमाल किया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!