राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद प्रॉपर्टी विवाद : CJI ने 18 अक्टूबर तक बहस पूरी करने का दिया आदेश

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद प्रॉपर्टी विवाद में जल्द ही फैसला आने की उम्मीद है । चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई ने इस मामले पर 18 अक्टूबर तक बहस पूरी करने का आदेश दिया है । उन्होंने कहा है कि सुनवाई के लिए अब एक दिन भी एक्स्ट्रा नहीं दिया जाएगा । सीजेई के मुताबिक अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर चार हफ्ते के अंदर कोई फैसला लेना किसी चमत्कार से कम नहीं होगा । बता दें कि सीजेआई रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे है । ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि इम मामले में फैसला जल्द आएगा ।

इस बीच आज अयोध्या मामले पर 32वें दिन की सुनवाई शुरू हो गई । मुस्लिम पक्षकारों ने इस हफ्ते एक घंटे अतिरिक्त सुनवाई की मांग की है ।

अयोध्या मुद्दे को लेकर दोनों समुदायों के बीच बीते 70 वर्षों से विवाद चला आ रहा है. सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है ।

6 अगस्त से रोजाना हो रही है सुनवाई

शीर्ष अदालत ने न्यायमूर्ति कलीफुल्ला की अध्यक्षता वाली मध्यस्थता समिति की रिपोर्ट का संज्ञान लिया था। समिति ने करीब चार महीने फैजाबाद में अलग-अलग पक्षों से बातचीत की लेकिन इसका कोई सार्थक परिणाम नहीं निकला । इसके बाद ही न्यायालय ने छह अगस्त से इस मामले की रोजाना सुनवाई करने का फैसला किया । शीर्ष अदालत ने इस विवाद को सर्वमान्य समाधान के उद्देश्य से आठ मार्च को मध्यस्थता के लिए भेजा था और इसे आठ सप्ताह में अपनी कार्यवाही पूरी करनी थी। समिति को उम्मीद थी कि इस विवाद का समाधान निकल आएगा, इसलिए न्यायालय ने इसका कार्यकाल 15 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया था । शीर्ष अदालत ने समिति की 18 जुलाई तक की कार्यवाही की प्रगति के बारे में रिपोर्ट का अवलोकन किया और इसके बाद ही नियमित सुनवाई करने का फैसला किया ।

2.77 एकड़ विवादित भूमि पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट इस समय अयोध्या में 2.77 एकड़ विवादित भूमि को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बराबर बराबर बांटने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले में दिए गए आदेश के खिलाफ दायर अपीलों पर सुनवाई कर रही है ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!