जिला स्तरीय आशा सम्मेलन सम्पन्न

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत आज नवीन मण्डी समिति रॉबर्ट्सगंज में जनपद स्तरीय आशा सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष अमरेश पटेल, जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम, सदर विधायक भूपेश चौबे, मुख्य विकास अधिकारी अजय कुमार द्विवेदी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0पी0 सिंह ने दीप प्रज्वलित कर जनपद स्तरीय आशा सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस दौरान म्योरपुर की आशा ने सरस्वती वंदना और चोपन की आशा ने स्वागत गीत से मुख्य अतिथियों का स्वागत किया।
जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने आशाओं का आह्वाहन करते हुए कहा कि आशाएँ स्वास्थ्य सेवाओं को जन-जन तक पहुंचाने में मदद करें। हर आशाएँ यह संकल्प ले लें कि अपने-अपने क्षेत्रों में जच्चा-बच्चा की मृत्यु नहीं होने देंगी, इससे स्थिति में काफी परिवर्तन होगा, जब स्वास्थ्य सेवाओं के उद्देश्य को लेकर चला जायेगा, तो कामयाबी अवश्य मिलेगी। उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा कि आशाओं के सुझाव व जरूरतों को पूरा करने के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग सदैव तत्पर रहेगा। सभी को साथ मिलकर कार्य करना है। आशाएँ गर्भवती महिलाओं को नियमित स्वास्थ्य परीक्षण चार बार कराएँ तो प्रसव के मौके पर होने वाले मौत में काफी कमी आयेगी। व्यवस्थाओं की कमी को दूर करने का प्रयास होगा, लिहाजा आशाएँ अपने-अपने ड्यूटी क्षेत्र में स्थानीय राजनीति से ऊपर उठकर स्वास्थ्य सेवाएं दें, जिससे मातृ शक्ति व बच्चों की मृत्यु नहीं होगी।
आशा सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए अध्यक्ष जिला पंचायत अमरेश सिंह पटेल ने जन स्वास्थ्य सेवाओं पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही जन स्वास्थ्य सुविधाओं का का लाभ जन-जन तक पहुचाने की अपील आषाओं से किया। वहीं विधायक सदर भूपेश चौबे ने आशा बहनों के कार्यां का गुणगान करते हुए कहा कि एक स्वस्थ्य एवं सम्पन्न घर वहीं होगा, जिस घर में मातृशक्ति व बच्चें हों। उन्होंने आशा बहनों की तारीफ करते हुए कहा कि आशा बहनें स्वास्थ्य सेवाओं की रीढ़ हैं, जिस प्रकार से सोनभद्र जिले को अति पिछड़े की श्रेणी में रखा गया है और प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन ने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया है, उसी प्रकार से जन स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ जन-जन तक पहुंचाने के लिए आशा बहनें भी चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए अपनी जिम्मेदारी निभाकर पुनीत कार्य के पात्र बनें।
आशा सम्मेलन के अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0पी0सिंह ने बताया कि संस्थागत प्रसव, टीकाकारण, परिवार नियोजन, आयुष्मान भारत योजना एवं प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना समेत अन्य योजनाओं को सफ़ल बनाने में आशाओं के बहुमूल्य योगदान का है। स्वास्थ्य सेवाओं को सुदूर गाँवों तक पहुंचाने में आशाओं एवं संगिनियों का योगदान सराहनीय है। उन्होने प्रदेश की मातृ मृत्यु दर एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने में आशाओं के भरपूर सहयोग की तारीफ़ किया एवं उम्मीद जताई की इसी तरह वह आगे भी कार्य करती रहेंगी।
आशा सम्मेलन मे अच्छा कार्य करने वाली 3 आशाओं को मुख्य अतिथियों ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विभाग तथा सहयोगी संस्थाओं के द्वारा स्टाल लगाया गया। जिसमें आयुष्मान भारत योजना, परिवार कल्याण, पोषण मिशन, कुष्ठ निवारण, क्षय रोग, राष्ट्रिय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम द्वारा स्टाल लगाये गए थे।
इस अवसर पर जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम, अध्यक्ष जिला पंचायत अमरेश सिंह पटेल, विधायक सदर भूपेश चौबे के अलावा मुख्य विकास अधिकारी अजय कुमार द्विवेदी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0पी0 सिंह, मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ0 पी0बी0 गौतम, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0के0 अग्रवाल, डॉ0 सलिल श्रीवास्तव, डॉ0 रामकुमार, डॉ0 राघवेन्द्र सिंह, प्रवीण दीक्षित, डॉ0 स्नेहा मंजूल, रजत मिश्रा, जिला कार्यक्रम प्रबन्धक रिपुंजय श्रीवास्तव, जितेंद्र कुशवाहा, महिला कल्याण अधिकारी नीतू यति, आनन्द मिश्रा समेत सैकड़ों की संख्या में आशाएँ शामिल रही।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!