बड़े ही अकीदत के साथ मनाया गया मुहर्रम का त्योहार

10 सितंबर 2019

हनीफ खान /सन्तोष जायसवाल (संवाददाता)

करमा । क्षेत्र में मोहर्रम का जुलूस ग़मगीन माहौल में पूरे अदिकत से मनाया गया। पगिया में जहाँ युवाओं ने यादे कर्बला में करतब दिखाकर लोगो को मंत्रमुग्ध कर दिया, वही बच्चों ने भी छोटी-छोटी तलवारें लेकर उत्साहित होकर या हुसैन हक़ हुसैन के नारे लगा रहे थे। सबसे पहले ताज़िया इमाम चौक से उठकर पूरे गांव में गश्त करते हुए मस्जिद के पास बैठाया गया उसके बाद नौजवानों ने अपने अपने करतब व कला का प्रदर्शन किया। क्या बूढ़े, क्या जवान, क्या मासूम बच्चे सबने मातम कर हाय हुसैन या हुसैन की सदाए बुलन्द करते रहे। इसके अलावा अखाड़ा वालों ने भी नए नए करतब दिखा कर सबको लुभाया।

मुहर्रम का त्योहार कर्बला के 72 शहीदों की याद में मनाया जाता है ।तजियादार नईम खान ने कहा कि मुहर्रम का त्योहार हम लोग हर साल की तरह इस साल भी परम्परागत तरीके से मना रहे हैं, कही कोई असुविधा नही हुई, उन्होंने प्रशासन को धन्यवाद दिया कि उनके कारण शांतिपूर्वक कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस मौके पर अजित कुमार सिंहपडरवा प्रधान रितेश पटेल, रमजान खान, इन्द्रबहादुर, पूर्व प्रधान पडरवा हामिद हुसैन, इस्माइल खान, मनुवर अली, मुमताज खान, सुलेमान खान, तौहीद खान मुगलु, निजाम खान, सलीम खान, बीडीसी मुस्ताक मास्टर, डॉ0इस्माइल खान, फैजल खान, करिम खान, हुसैन खान, तसलीम खान, टीपु सुल्तान, जलालु सुकरुल्ला, हाकिम सब्बीर खान, अहमद रजा, हिफाजत हुसैन अली हुसैन, साहिद रजा, हनीफ खान, कमल रजा, राजा खान, जलालुद्दीन, रसीद, फरीद, गोलू, रोहित, सोनू, शरफू, मो0 साइकिल, अहमद रजा खरका, मो0 उदल खान, शमशेर, मो0वारी हसन टिनगु, विजय प्रताप सिंह, राधे यादव, रणविजय, अखिलेश यादव, उपनिरीक्षक बंशीधर, एसआई बलिराम सिंह, कांस्टेबल अशोक कुमार गौतम आदि सैकड़ों लोग इकट्ठा रहे साथ ही सैकड़ों की तायदात में जुलूस में शामिल हुए साथ ही पडरवा सेमरा खोराडीह खतखरिया बिसन पूरा पुरनिया आदि जगहों पर भी मुहर्रम का त्योहार बड़े ही ख़ुलूस के साथ मनाया गया मुहर्रम का त्योहार नबी के प्यारे हजरत इमाम हुसैन का जन्म इस्लामी कैलेंडर के अनुसार तीन शाबान चार हिजरी (8 जनवरी 626) सोमवार को हुआ था। हुसैन की मां रसूल-ए-मकबूल हजरत मुहम्मद की सबसे प्यारी बेटी हजरत फातिमा थीं। आपके पिता का नाम हजरत अली था। हजरत मुहम्मद ने ही आपका पालन-पोषण किया था। हदीसों से ज्ञात होता कि रसूलल्लाह हजरत मुहम्मद को अपने नवासे इमाम हुसैन से बड़ा स्नेह था। एक बार की बात है कि हजरत फातिमा के घर के आगे से हजरत मुहम्मद का गुजरना हुआ। इमाम हुसैन के रोने की आवाज आई। आप फौरन हजरत फातिमा के पास गये और कहा, ‘बेटी, तू इस बच्चे को रुला कर मुझे दुख देती है।’ इतना प्यार था हमारे रसूल को अपने नवासे से। इसी प्रकार एक बार की बात है कि हजरत मुहम्मद साहबा-ए-कराम के बीच में बैठे थे तो उन्होंने कहा, ‘हुसैन मुझसे है, मैं हुसैन से हूं। ऐ खुदा जो हुसैन को दोस्त रखता है, तू उसे दोस्त रख। जिसने मुझसे मुहब्बत की, उसने खुदा से मुहब्बत की हजरत इमाम हुसैन अपने नाना व साहाबा-ए-कराम के संरक्षण में पले-बढ़े और इसी प्रकार के समाज में रहे। इसीलिए हजरत इमाम हुसैन के अंदर वही विशेषताएं आ गई थीं, जो उनके नाना में थीं। सच बोलना, निडर रहना, इंसाफ पसंदी, मनुष्यता, धैर्य, सच्चाई, सहनशक्ति आदि विशेषताएं हजरत इमाम हुसैन में थीं, जिसके कारण उन्होंने यजीद और उसके साथियों का अंतिम सांस तक मुकाबला किया। आने वाली नस्लों के लिए हुसैन और उनके परिवार का बलिदान परम बलिदान बन गया।मुहर्रम में बलिदान की याद ताजा की जाती है। मास मुहर्रम की पहली से दसवीं तिथि (दसवीं को हुसैन शहीद हुए) तक नौ दिनों को अशरा-ए-मुहर्रम कहते हैं। दसवीं को आशूरा कहते हैं। तमाम विश्व के मुसलमान हुसैन की शहादत को याद करने के लिए जुलूस निकालते हैं। इसके अतिरिक्त मजलिसें भी की जाती हैं। हजरत इमाम हुसैन को याद करने के लिये स्वयं को कष्ट दिया जाता है। लोग बयान सुनते हैं और रोते हैं। मुहिब्बान-ए-हुसैन (हुसैन से प्यार करने वाले) अपना सर और सीना पीटते हैं। इसके अतिरिक्त याद-ए-हुसैन में रंग-बिरंगे ताजिये भी निकाले जाते हैं, जिनको अस्र की नमाज के समय (जिस समय हुसैन को शहीद किया गया अपने-अपने नगर की करबला के मैदान में दफना दिया जाता है।

करबला का सबक –

करबला ने हमें सिखाया है कि जीवन चंद रोज का ही है और असल जीवन तो आखिरत (मृत्योपरान्त) में ही प्रारम्भ होता है। भगवान की बात को मानना परम धर्म है और सदा हक, सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए, चाहे शत्रु कितना ही मजबूत क्यों न हो। खुद में इतनी सहनशीलता लाओ कि शत्रु वार करते-करते थक जाए। अपने हक की रक्षा के लिए किसी भी बलिदान के लिए तैयार रहो। जिल्लत के जीवन से इज्जत की मृत्यु अच्छी है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!