परिषदीय विद्यालय अबाड़ी में बना बाउंड्री एक महीने में हुआ ध्वस्त, अधिकारी बोले – नहीं है जानकारी

06 सितम्बर 2019

शशि चौबे / संजय केसरी (संवाददाता)

* लगातार सामने आ रही कोटा ग्राम पंचायत की खामियां व भ्रष्टाचार

* आखिर कोटा ग्राम पंचायत में कार्यवाही से क्यों घबराते हैं अधिकारी

* जनपद न्यूज Live ने हाल ही में सीसी रोड में भ्रष्टाचार का उजागर किया था मामला

* बीडीओ चोपन बोले, जांच में मिली खामियां तो होगी कार्यवाही

डाला । जीरो टॉलरेंस का दावा करने वाली योगी सरकार में भ्रष्टाचार कैसे पांव पसार रही है यह शायद सीएम योगी को नहीं पता । दरअसल सीएम योगी जिन अधिकारियों और कर्मचारियों के भरोसे यह दावा करते हैं वे जमीनी स्तर पर कितने ईमानदार हैं यह शायद सीएम साहब को नहीं पता ।
नक्सल प्रभावित जनपद सोनभद्र में चोपन विकास खण्ड का कोटा ग्राम पंचायत अपने नए नए कारनामों को लेकर चर्चा में है । यह कोई नई बात नहीं कि कोटा ग्राम पंचायत चर्चा में है । सरकार चाहे किसी की भी हो, इस ग्राम पंचायत में वही होता है जो प्रधान चाहता है । करोड़ों रुपये के फंडिंग वाले इस ग्राम पंचायत में ग्राम प्रधान की भूमिका संदेह के घेरे में है, जिसे लेकर गांव के सभी सदस्यों ने प्रधान के कार्यों की जांच की मांग की है । लेकिन अपने प्रभाव के कारण प्रधान ने कोटा ग्राम पंचायत की आज तक जांच नहीं होने दी ।
प्रधान द्वारा गांव में कराए गए कार्यों को लेकर जब जनपद न्यूज Live की टीम गांव में पहुंची तो पता चला कि अबाड़ी में कई लोगों के घर पर सीसी रोड दिखाकर पैसा निकाल लिया गया। जबकि मौके पर ग्रामीणों ने बताया कि कोई रोड नहीं बना ।
इसके अलावा गांव में विकास कार्य कैसे किया जा रहा है और गांव में कैसे प्रधान की मनमानी और सिक्का चल रहा है, इसकी बानगी प्राथमिक विद्यालय अबाड़ी पर देखने को मिला ।

जहाँ ग्राम प्रधान द्वारा स्कूल की बाउंड्री बनाये जाने के एक महीने बाद ही ध्वस्त हो गयी ।
विद्यालय के प्रभारी जितेन्द्र कुमार ने बताया कि यह बाउंड्री लगभग छः माह पूर्व ग्राम प्रधान के द्वारा बनाई गई जो अप्रैल में ही गिर गया । प्रभारी ने बताया कि वह तो गनीमत था कि कोई अप्रिय घटना नही घटी । उन्होंने बताया कि इस बाउंड्री के अंदर किनारे- किनारे पौधा लगाया था जो बाउंड्री गिरने के साथ ही सब नष्ट हो गया । विद्यालय के प्रभारी ने यह भी बताया कि बाउंड्री गिरने के साथ ही गेट भी उखड़ गया, अब सिर्फ एक ही गेट लगा हुआ हैं।

वहीं इस पूरे मामले पर बीडीओ चोपन ने दूरभाष पर बताया कि उन्हें प्रकरण की जानकारी नहीं है, यदि गड़बड़ी पाई गई तो कार्यवाही होगी ।

बहरहाल स्कूल के प्रभारी के मुताबिक स्कूल की बाउंड्री 5 महीने से गिरी हुई है । ऐसे में बीडीओ चोपन का यह बयान कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं है, इस बात की तरफ इशारा करती है कि योगी सरकार के यही वे अधिकारी हैं जिनके भरोसे पर सरकार के मंत्री बयान या दावे करते हैं । ऐसे में वे दावे कितने सटीक होंगे यह सहज अंदाजा लगाया जा सकता है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!