कुपोषण के खात्मे को जंग का हुआ आगाज

01 सितंबर 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कुपोषण के खात्मे के लिए जंग का आगाज आज हो गया। चार सप्ताह के कार्यक्रम की शुरूआत जनपद के 1825 आंगनबाड़ी केंद्रों पर हुई। एनीमिया में कमी लाने को अब हर आंगनबाड़ी केंद्र पर प्रतिदिन नए कार्यक्रम होंगे तो कुपोषित बच्चों के अभिभावकों को पौष्टिक आहार लेने के लिए जागरूक किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी अजीत कुमार सिंह ने बताया कि कुपोषण के खिलाफ प्रभावी जंग और जन आन्दोलन को सुनिश्चित करने के लिए इस सितंबर माह को पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा। इस दौरान पोषण और स्वास्थ्य से संबंधित विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से गांव-गांव में जन जागरूकता और जन आंदोलन को बढ़ावा दिया जायेगा। पूरे माह को चार सप्ताह के आधार पर दैनिक गतिविधियों के माध्यम से अलग- अलग संदेशों को जन- जन तक पहुचाया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रथम सप्ताह में पुरूष भागीदारी, द्वितीय सप्ताह में किशोरी बालिकाएं, तृतीय सप्ताह में बाल सुपोषण उत्सव और अंतिम सप्ताह में माताओं पर विशेष ध्यान दिया जायेगा।

पोषण अभियान का लक्ष्य छह साल तक के बच्चों, गभर्वती, धात्री महिलाओं और किशोरी बालिकाओं में कुपोषण, एनीमिया की दर में कमी लाना है। पोषण अभियान का लक्ष्य छह साल तक के बच्चों, गभर्वती, धात्री महिलाओं और किशोरी बालिकाओं में कुपोषण, एनीमिया की दर में कमी लाना है। पोषण माह की प्रत्येक गतिविधि के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए डीएम प्रभाकर चौधरी ने संबंधित अधिकारियों को पोषण माह के लक्ष्य को शत-प्रतिशत प्राप्त करने के लिए निर्देशित किया गया है। पोषण माह का आगाज आज आंगनबाड़ी केंद्रों पर वजन दिवस के साथ हुआ। आंगनबाड़ी केंद्र लोढ़ी प्रथम पर जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम द्वारा पोषण अभियान/पोषण माह का शुभारंभ किया गया। शहर समेत जनपद के 1825 केंद्रों पर सुबह से पंजीकृत बच्चों के वजन लेने का काम हुआ। दोपहर तक केंद्रों पर बच्चों का वजन करने को हलचल होती रही

एसडीएम सदर ने रॉबर्ट्सगंज के वार्ड नंबर 25 के आंगनबाड़ी केंद्र एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी ने विकास खण्ड रॉबर्ट्सगंज के आंगनवाड़ी केंद्र जैत पर बाल पोषण माह का शुभारंभ करने के साथ आंगनबाड़ी केंद्रों का भ्रमण कर वजन कार्यक्रम की हकीकत देखी। इस दौरान कम वजन वाले बच्चों के अभिभावकों को पौष्टिक आहार देने और आंगनबाड़ी केंद्रों के जरिये परामर्श लेने को प्रेरित किया साथ ही भोजन दिवस के साथ-साथ बच्चों के माता-पिता को लोरी से कटोरी तक पुस्तिका के माध्यम से ऊपरी आहार के विषय में विशेष रुप से जानकारी दी गई साथ में साफ-सफाई, स्वच्छता एवं शुद्ध पेयजल के महत्व के बारे में भी विस्तार से अभिभावकों के साथ आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा चर्चा की गई।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!