श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कई थानों पर नहीं दिखी रौनक, पसरा रहा सन्नाटा

24 अगस्त 2019

ख़्वाजा खान (संवाददाता)

-कई दशकों की परम्परा टूटी

-नहीं सजा थाना, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर नहीं दिखी रौनक

-क्षेत्र में चर्चाओं का विषय बना

बभनी । इस बार कई थानों पर जमाष्टमी का पर्व फीका नजर आया । ऐसा ही नजारा बभनी में भी देखने को मिला । जहां कई वर्षों से चली आ रही जमाष्टमी का पर्व धूमधाम से न मनाए जाने से सन्नाटा ही पसरा रहा । हर बार थाना दुल्हन की तरह सजाया जाता था । स्थानीय लोग इस दिन का बेसब्री से इंतजार करते है मगर इस बार निराशा ही हाथ लगी।लोगों को भगवान के प्रसाद के साथ रात भजन भी सुनने को मिलते थे ।

इस विषय पर प्रभारी थानाध्यक्ष अविनाश चन्द्र सिन्हा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि दूसरों से चन्दे के नाम पर वसूले गये पैसे से जश्न मनाने से बेहतर है कि अपनी जितनी शक्ति हो उसी के अनुसार पूरे श्रद्धाभाव से पूजा अर्चना कर प्रभु का जन्मोत्सव मनाना बेहतर है । किसी के आत्मा को दुःखी कर हम चन्दे के नाम पर धन की उगाही कर दिखावा करने से ईश्वर खुश नहीं हो सकते।सही माने में ईश्वर को असली ख़ुशी तब मिलेगी ज़ब हम प्रभु का जन्मोत्सव बगैर किसी के दिल दुखाये ग़रीबो असहायों की मदद करें वो भी बगैर किसी दिखावे के।

थानाध्यक्ष अविनाश चन्द्र सिन्हा ने कहा कि मैंने मंदिर के पुजारी को एक माह पूर्व ही कह दिया था कि कोई दिखावे का जश्न नहीं होगा,और ना हीं किसी तरह के चन्दे की वसूली होगी। मैने अपने तनख्वाह की रक़म से पुजारी जी दो हज़ार रुपये पूजा सामग्री व प्रसाद के लीये दे दिया हैं कि आप ढंग से प्रसाद बना कर पूरी श्रद्धा के साथ श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर पूजा पाठ करें,और अपनें पुलिस परिवार के लिए 5000,रूपये रसोइयां को दे दिया और उससे कह दिया की श्री कृष्ण जन्मोत्सव की ख़ुशी में थानें के पुलिस परिवार को अच्छे से अच्छा भोजन जो लोगों को पसन्द हो बना कर खिलाये व खुशियां मनाये।
अब वजह चाहे जो भी हो थानाध्यक्ष का पुरानी परम्पराओं पर पूर्ण विराम लगाना पुरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!