श्री कृष्ण के रंग में डूबा शहर, चारों ओर श्री कृष्ण जन्माष्टमी की रौनक

23 अगस्त 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कृष्ण कन्हैया का बाल स्वरूप, शेषनाग के फन पर मुरली बजाते नंद गोपाल, गोपियों के साथ रासलीला रचाते केशव व राधा-कृष्ण का प्रेम। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पर्व पर कुछ ऐसी ही मनोहारी झांकियों को सजाई जा रही हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पर्व पर शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक मंदिरों की विशेष साज-सज्जा की गयी है। प्रत्येक हिन्दू घर-परिवार उत्साह व उल्लास में डूबा है। भादों मास के कृष्ण पक्ष की तिथि अष्टमी को भगवान श्रीकृष्ण का जन्मदिन मनाया जाता है। शहर से लेकर गाँव तक श्रीकृष्ण के जन्म से लेकर लीला तक की अलग-अलग रूपों में मनोहारी झांकियां सजाई गयीं हैं।

वहीं रॉबर्ट्सगंज थाने पर थाने पर प्रभारी मिथिलेश मिश्रा ने वैदिक अनुष्ठान कर श्री कृष्ण के बालरूप प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा कराई और भगवान श्री कृष्ण जन्म होने तक सभी पुलिसकर्मी और उनके परिवार के लोग मंगलगान में लीन रहे। रात्रि के ठीक 12 बजे श्री कृष्ण जन्म कराया जायेगा और उसके बाद प्रसाद का वितरण किया जाएगा।

वहीं सजावट की बात करें तो आज रॉबर्ट्सगंज थाने की छटा देखते ही बन रही थी। शाम को सूर्यास्त के बाद देखने पर रॉबर्ट्सगंज कोतवाली नई नवेली दुल्हन जैसी सजी दिखी। झालर, लाइटों और गुब्बारों से सजी कोतवाली का दृश्य बहुत ही मनमोहक था।

अमूमन पूरे वर्ष ये पुलिस के जवान त्योहारों मनाने के लिए छुट्टी की मांग करते हैं। कई त्योहारों पर तो उन्हें छुट्टी भी नहीं मिल पाता है लेकिन एक त्योहार ऐसा भी है जो थाने और चौकियों में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। पुलिसवाले इस त्योहार के लिए महीनों से तैयारियाँ करते हैं। थानों पर शायद ही कोई त्योहार इतना धूमधाम से मनाया जाता हो जितना कि श्री कृष्ण जन्मोत्सव।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!