शिक्षा विभाग में मिड डे मील की खुली पोल, नमक रोटी के दम पर तालीम ले रहे स्कूली बच्चे

23 अगस्त 2019

सुशील कुमार (संवाददाता)

– जिलाधिकारी ने किया तत्काल कार्यवाही, बीएसए से मांगा स्पस्टीकरण

– जांच रिपोर्ट के बाद होगी बड़ी कार्यवाही – बेसिक शिक्षा मंत्री

अदलहाट । उत्‍तर प्रदेश के मीरजापुर ज‍िले में एक सरकारी स्‍कूल में बच्‍चों को म‍िड डे मील के नाम पर नमक और रोटी देने का मामला तूल पकड़ लिया है । घटना के सामने आने बाद डीएम ने दो श‍िक्षकों को सस्‍पेंड कर द‍िया है। उसके बाद खण्ड शिक्षा अधिकारी तक को निलंबित करने के अलावा बीएसए से स्पष्टीकरण तलब किया गया है ।

जानकारी के मुताबिक जमालपुर ब्‍लॉक के सियूर प्राथमिक विद्यालय में कम से कम 100 बच्‍चों को मिड-डे मील के नाम पर नमक और रोटी बांटा गया और फिर बच्‍चों को नमक और रोटी बांटे जाने का विडियो सोशल मीडिया में वायरल भी हो गया । विडियो वायरल होने के बाद प्रशासन हरकत में आया और मामले की जांच के बाद दो शिक्षकों को शाम तक सस्‍पेंड कर दिया गया ।

तस्वीरों में साफ नजर आ रहा है कि कैसे बच्‍चे जमीन पर बैठे हैं और थाली में उन्‍हें मिड-डे मील के रूप में नमक और रोटी दिया गया है । मासूम बच्‍चे इच्‍छा नहीं होने के बावजूद नमक और रोटी खाने के लिए मजबूर थे । स्कूल प्रशासन की अमानवीय तरीके से प्रशासन भी हैरान था । स्‍थानीय लोगों ने बताया कि इस स्‍कूल में अक्‍सर बच्‍चों को खाने के नाम पर नमक रोटी या नमक और चावल ही दिया जाता है।
स्‍थानीय लोगों ने बताया कि इस स्‍कूल में कभी-कभी ही दूध आता है और उसे भी बांटा नहीं जाता है। फल तो कभी बच्‍चों को बांटे ही नहीं जाते हैं। यह पिछले कई सालों से इस स्‍कूल में बदस्तूर जारी है।

इस मामले कोवजिलाधिकारी अनुराग पटेल ने गंभीरता से लेते हुये बच्‍चों को नमक और रोटी बांटने के आरोप में स्कूल के प्रधानाचार्य मुरारी और न्याय पंचायत समन्वयक अरविंद त्रिपाठी को तत्काल सस्‍पेंड कर दिया है और बाद में बीएसए प्रवीण तिवारी को कारण बताओ जारी किया है । साथ ही ग्राम प्रधान सीयूर की भूमिका की जांच करने के दिये DPRO को दिए निर्देश हैं ।

जिलाधिकारी ने बताया कि खंड शिक्षा अधिकारी को नोटिस जारी किया गया है। उनका जवाब आने के बाद संतोषजनक उत्‍तर नहीं मिलने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

इस बीच कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और मीरजापुर के मड़‍िहान सीट से पूर्व विधायक ललितेशपति त्रिपाठी ने मिड-डे मील योजना में इस घोर लापरवाही के लिए राज्‍य सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया है। उन्‍होंने कहा कि जिले के स्‍कूलों में काफी समय मिड-डे मील योजना में धांधली चल रही है। कई बार शिकायत के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उन्‍होंने मांग की कि इस घटना की निष्‍पक्ष जांच कराई जाए और मासूमों के जीवन से खिलवाड़ करने वाले दोषी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

दोषियों के खिलाफ होगी सख्‍त कार्रवाई’

यूपी सरकार के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने इस बारे में पत्रकारो से बात करते हुए कहा कि उन्हें इस मामले की जानकारी रात दो बजे फेसबुक पर वायरल हुए एक विडियो से मिली थी। इस मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए रसोइयां, मिड-डे मिल के इंचार्ज शिक्षक और एनपीआरसी के एक प्रभारी शिक्षक को सस्पेंड किया गया है। इसके अलावा खंड शिक्षा अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा गया है। इस मामले में मैं लगातार जिलाधिकारी के संपर्क में हूं और शुक्रवार शाम तक उनसे रिपोर्ट मांगी है। स्पष्टीकरण मिलने और जिलाधिकारी की रिपोर्ट आने के बाद अगर कोई अन्य अधिकारी भी दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!