घोरावल सामुदायिक केंद्र की बदहाली हुई उजागर, मोबाइल की रौशनी से हो रहा इलाज

23 अगस्त 2019

राजकुमार गुप्ता/आनंद चौबे (संवाददाता)

नीति आयोग जैसे जनपदों में जहां स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर करने के उद्देश्य से योगी सरकार भले ही बड़े – बड़े वादा करती हो मगर सोनभद्र में घोरावल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सा के नाम पर किस तरह खिलवाड़ हो रहा है यह आज आपको जनपद न्यूज live दिखायेगा कि योगी के राज में कैसे घोरावल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों का इलाज टार्च की रोशनी में किया जा रहा है । बड़ी बात यह है कि आकाशीय बिजली से झुलसे घायलों के इलाज के दौरान जिले के एडीएम और एएसपी मौके पर मौजूद थे । अधिकारी भी वहां का नजारा देखकर अधिकारी भी सन्न रह गए । अस्पताल में बिजली न होने की वजह से घायलों का इलाज अधिकारियों और पुलिस की मौजूदगी में मोबाइल की रोशनी में किया गया। वायरल वीडियो में यह साफ देखा जा सकता है कि कैसे पुलिस के अधिकारी अपने जवान को ढांढस बंधाते नजर आ रहे हैं।वहीं एक अन्य सिपाही मोबाइल के टॉर्च को जलाकर रोशनी किया हुआ है।सबसे बड़ी बात यह है कि सभी मरीज आकाशीय बिजलिवसे झुलसे हुए थे जिन्हें ठंडे स्थान पर रखा जाना था मगर अस्पताल की दुर्दशा के कारण उन्हें अंधेरे में जूझना पड़ रहा था।

दरअसल घोरावल तहसील अंतर्गत मुक्खाफाल के पास आज आकाशीय बिजली गिरने से बैंक ड्यूटी कर जा रहे एक हेडकांस्टेबल, एक होमवर्ड के आलावा खेत पर काम कर रही 5 महिलाएं झुलस गई । जिसके बाद स्थानीय लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी । पुलिस ने आनन-फानन में तत्काल सामुदायिक स्वाथ्य केंद्र में सभी को भर्ती कराया गया था । लेकिन पूर्व की सरकार की तर्ज पर चला आ रहा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दुर्व्यवस्था के कारण मरीजों की दुर्गति हो रही है ।

महत्वपूर्व बात यह है कि नीति आयोग में शामिल जनपदों की मॉनेटरिंग पीएम से लेकर सीएम तक करते हैं । लेकिन वावजूद इसके अधिकारियों की मिलीभगत के चलते आज तक स्वास्थ्य विभाग जस के तस रह गया ।

बताते चलें कि घोरावल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लापरवाही का यह कोई पहला मामला नही है, इसके पहले भी इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं। जिसमें मोबाइल की रोशनी में डॉक्टर इलाज करते देखे गए । मगर अधिकारियों की मिली भगत के कारण उनपर कभी भी कोई कार्यवाही नहीं हुई।

बहरहाल योगी सरकार में कैबिनेट विस्तार के बाद नए मंत्री ने पद संभाला है । अब देखने वाली बात यह है कि नए मंत्री इन सब चुनौतियों से कैसे निपटेंगे ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!