पूर्ति विभाग पुवायां में बड़ा खेल

23 अगस्त 2019
सुरेश श्रीवास्तव (संवाददाता)
-अपात्रों की जगह पात्रों के नाम राशन कार्ड से काटकर कर रहे हैं लक्ष्य पूर्ति
-भाजपा सरकार को बदनाम करने की क्या हो रही है साजिश

-सीएम हेल्पलाइन पर की गई शिकायतों पर भी मन चाही झूठी रिपोर्ट लगाते हैं अधिकारी गण ।

खुटार ,शाहजहांपुर। जनता के मूलभूत आवश्यकताओं में पहली जरूरत पात्रों को राशन की पड़ती है वर्षों से खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा पात्रों को राशन कार्ड से गेहूं चावल मिलता आ रहा है खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा जबसे दुकानों पर मशीनें लगा दी गई हैं तब से पूर्ति विभाग कर्मियों की ऊपरी कमाई बंद हो गई है सुविधा शुल्क रूपी खून का स्वाद चख चुके कर्मचारियों का शायद वेतन से खर्च नहीं चल रहा है इसके लिए विभागीय कर्मचारियों ने नायाब तरीका निकाल लिया है अधिकारियों की शह पर कार्यालय में बैठे -बैठे राशन कार्डों से यूनिट काट दिए जाते हैं जिससे पात्रों के सामने गुजर-बसर करना मुश्किल हो गया है पात्रों और अपात्रों की पहचान के लिए सभी कार्डों में आधार कार्ड लिंक है लेकिन कामचोर कर्मचारी ईमानदारी से काम करना नहीं चाहते अपात्र यहां सस्ता राशन लेकर बाजार में बेंच जाते हैं वहीं पात्र राशन कार्ड में नाम कटने की वजह से भूखमरी की कगार पर पहुंच रहे हैं निर्भीक कर्मचारियों को सरकार का भी डर नहीं लगता है सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत करने पर लक्ष्य पूरा होने की आख्या लगा कर जांच को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है शहजहांपुर में पूर्ति विभाग में कारनामा कोई नया नहीं है पूर्व में शहजहांपुर के जलापूर्ति अधिकारी भ्रष्टाचार के मामले में एंटी करप्शन द्वारा पकड़े जा चुके हैं खुटार के पात्र राशन कार्ड उपभोक्ताओं ने राशन कार्ड की स्थलीय जांच कराकर काटे गए नामों को फिर से जुड़वाए जाने की मांग की है



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!