जानें शपथ लेने वाले मंत्रियों के बारे में

21 अगस्त 2019

लखनऊ ।

आज योगी सरकार के डेढ़ वर्ष बाद पहले मंत्रीमंडल विस्तार में कानपुर को तीन मंत्रियो के रूप में तोहफा मिला। कमलरानी वरुण को कैबिनेट तो नीलिमा कटियार और अजीत पाल को राज्यमंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई।

कमला रानी वरुण का राजनैतिक जीवन –

संगठन में काफी सक्रियता निभाने वाली कमल रानी वरुण सबसे पहले कानपुर नगर से पार्षद बनी। वर्ष 1996 और 1998 में घाटमपुर सुरक्षित लोकसभा से सांसद चुनी गयी। वर्ष 1999 में मामूली अंतर से उन्हें प्यारेलाल संखवार से हार का सामना करना पड़ा। लंबे उतार-चढ़ाव देखने के बाद वर्ष 2017 में घाटमपुर सुरक्षित विधानसभा से विधायक चुनी गई।

नीलिमा कटियार का प्रोफ़ाइल –

कल्याणपुर से बीजेपी विधायक नीलिमा कटियार ने राज्यमंत्री पद की शपथ। वर्तमान में विधायक नीलिमा कटियार भाजपा में प्रदेश महामंत्री हैं। पहली बार अपनी माता जी की सीट कल्याणपुर से चुनाव लड़ी और जीती। किशोरावस्था से संघ और भाजपा में निष्ठा के साथ जुड़ा होने का नीलिमा कटियार को मिला लाभ

संगठन में काम करने का अनुभव –

नीलमा कटियार की माताजी प्रेमलता कटियार प्रदेश के कद्दावर नेता हैं। प्रेमलता कटियार कल्याणपुर से पांच बार विधायक निर्वाचित होने के साथ ही कई बार प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री के पद को सुशोभित कर चुकी हैं। प्रेमलता कटियार राजस्थान के राज्यपाल और और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की विश्वास पात्र रही हैं।

अजीत पाल का प्रोफ़ाइल –

कानपुर देहात से पहली बार उपचुनाव लड़कर विधायक बने। पिता मथुरा पाल के निधन के बाद खाली हुई थी सिकन्दरा विधान सभा सीट। पिता मथुरा पाल जिले की सरवनखेड़ा विधानसभा से कई बार विधायक चुने गए थे। मथुरा पाल पूर्व में कई राजनैतिक दलों में भी रहे थे। अंत में भाजपा में शामिल हुए और विधायक बने और बीमारी के कारण उनका निधन हो गया। इनका परिवार कानपुर नगर में ही निवास करता है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!