पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत, गिरफ्तारी की लटकी तलवार

21 अगस्त 2019

INX मीडिया करप्शन केस में फंसे कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से फौरी राहत नहीं मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इनकार करते हुए कहा कि उनकी अग्रिम जमानत याचिका पर तत्काल सुनवाई हो कि नहीं, अब चीफ जस्टिस रंजन गोगोई फैसला लेंगे। मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस एन. वी. रमन्ना ने कहा कि वह इस मामले को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के पास भेज रहे हैं। उन्होंने चिदंबरम के वकीलों की टीम को सारी औपचारिकताएं पूरी करने का आदेश दिया। उधर, कल से ही लापता चिदंबरम के खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी कर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने पी. चिदंबरम का मामला जस्टिस एन वी रमन्ना के सामने मेंशन करते हुए गिरफ्तारी पर रोक की मांग की। सीबीआई की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सिब्बल की इस मांग पर आपत्ति जाहिर की। जस्टिस रमन्ना ने कहा कि आपके मामले को हम सीजेआई के पास भेज रहे हैं। वहां अपनी मांग रखिएगा। इस पर कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें गिरफ्तारी का डर है। हमारी याचिका सुन लीजिए। इसका सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने विरोध किया। जस्टिस रमन्ना ने कहा कि मुख्यन्यायाधीश तय करेंगे कि कब और कौन सुनवाई करेगा। फिलहाल कोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक नहीं लगाई।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!