बीएसए पहुंचे उभ्भा गांव, बच्चों से की सीधी बात

08 अगस्त 2019

घोरावल (सोनभद्र) । 17 जुलाई को मूर्तिया ग्राम पंचायत के उभ्भा गांव में जमीनी विवाद के मामले में दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले और हुई फायरिंग में दस लोगों की जानें चली गई थी। और दो दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। घटना के बाद से मूर्तिया ग्राम पंचायत के सपही, उभ्भा तथा मूर्तिया गांव में ग्रामीणों में दहशत का माहौल छा गया। विद्यालय पढ़ने जाने वाले छात्रों को अभिभावकों ने विद्यालय भेजना बंद कर दिया। लेकिन घटना के बाद उभ्भा प्राथमिक विद्यालय में पीएसी के जवान डेरा डाल दिए तब से गांव में शांति का माहौल कायम है। ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए एक प्लाटून पीएसी फोर्स की तैनाती उभ्भा में है। बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने घटना के दो दिन बाद से विद्यालय में बच्चों को पढ़ने के लिए अभिभावकों से आग्रह किया और उन्हें पूर्ण रूप से आश्वस्त किया कि कोई भी तकलीफ बच्चों को नहीं होगी। छात्र उपस्थिति दिन प्रतिदिन बढ़ती रही।

गुरुवार को बेसिक शिक्षा अधिकारी गोरखनाथ पटेल उभ्भा पहुंचे और वहां पर विद्यालय का निरीक्षण किया तथा विद्यालय के बच्चों से बातचीत की। कुछ दिनों से चर्चा में रहा कि मूर्तिया स्थित उच्च प्राथमिक विद्यालय में 306 पंजीकृत छात्रों में उभ्भा गांव के 62 छात्र पंजीकृत है। जो घटना के बाद से मिल रही धमकियों के कारण विद्यालय आने से भय वश कतरा रहे है। छात्रों की उपस्थिति बढ़ाने के लिए घर घर जाकर बीएसए गोरखनाथ पटेल तथा एबीआरसी अशोक कुमार त्रिपाठी, विनोद कुमार, राधा रमण मिश्रा आदि अध्यापकों ने अभिभावकों को जागरूक किया कि वह अपने बच्चों को पढ़ने के लिए अवश्य भेजें। अध्यापकों ने बताया कि गुरुवार को मूर्तिया में 196 छात्र विद्यालय गए जिनमें से 47 छात्र उभ्भा गांव के रहे। छात्रों की उपस्थिति बढ़ने से शिक्षा विभाग में खुशी देखी गई वही छात्रों के चेहरे पर भी मुस्कान दिखाई पड़ी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!