एवोकाडो में होते हैं 20 तरह के विटामिन और मिनरल, जानें इसकी खासियतें


एवोकाडो अनेक पोषक तत्वों से भरपूर है, जिस कारण डाइट चार्ट में इसका खास स्थान है। इसके फायदे, इस्तेमाल और सावधानी के बारे में जानकारी दे रही हैं विनीता झा

एवोकाडो खाने वालों की संख्या में इन दिनों बहुत इजाफा हुआ है। नाशपाती के आकार का यह फल स्वादिष्ट तो है ही, पौष्टिक भी है। इसलिए इसका जिक्र डाइट चार्ट के प्रसंग में अधिक होता है। एवोकाडो की कई किस्में उपलब्ध हैं, लेकिन इसकी क्रीम वाली किस्में बहुत लोकप्रिय हैं। आइए जानें इसके ढेर सारे फायदों के बारे में-

अगर सांसों में बदबू की समस्या हो
खाना सही से न पचने या पेट की परेशानियों के कारण मुंह से कई बार बदबू आने लगती है। ऐसे में एवोकाडो में पाए जाने वाले जीवाणुरोधी और एंटी ऑक्सिडेंट फ्लेवोनोइड्स मंुह के बैक्टीरिया को नष्ट कर देते हैं। इससे सांसों में ताजगी आ जाती है। फाइबर युक्त होने के कारण इसके सेवन से अपच की समस्या से भी निजात मिलती है।

हृदय को रखे स्वस्थ
एवोकाडो में बीटा-सिटोस्टीरॉल पाया जाता है, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। इससे हृदय स्वस्थ रहता है।

आर्थ्राइटिस में उपयोगी
एवोकाडो में एंटी- इन्फ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो आर्थ्राइटिस के इलाज में बहुत उपयोगी साबित होता है। यह टिश्यू, जोड़ों, मांसपेशियों की सूजन कम करने में भी मदद करता है।

कैंसर की रोकथाम
एवोकाडो ब्रैस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर समेत कई तरह के कैंसर के जोखिमों को भी कम करता है। एवोकाडो में कैरोटिनोइड्स मोनो अनसैचुरेटेड फैट होता है, जो कैंसर के जोखिम को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें एंटी ऑक्सिडेंट ग्लूटाथियोन भी पाया जाता है, जो कोशिकाओं के मुक्त कणों को खतरनाक प्रभाव से सुरक्षा प्रदान करता है।

एवोकाडो में मौजूद पोषक तत्व
एवोकाडो में 20 तरह के विटामिन और मिनरल पाए जाते हैं, जो रक्तचाप सामान्य करने में मदद करते हैं। माना जाता है कि एवोकाडो विटामिन बी का अच्छा स्रोत है, जो शरीर को संक्रमण से लड़ने की ताकत देता है।

लिवर को बनाता है मजबूत
एक शोध के अनुसार, एवोकाडो लिवर को कई तरह की बीमारियों से बचाता है। इसमें कुछ ऑर्गेनिक यौगिक पाए जाते हैं, जो लिवर को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसमें कई घुलनशील और अघुलनशील फाइबर भी मौजूद होते हैं, जो पाचन में मदद करते हैं।

इन बातों पर ध्यान दें
एवोकाडो कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। इसलिए इसका जरूरत से ज्यादा सेवन नुकसानदेह हो सकता है। कई लोगों को इससे एलर्जी की शिकायत हो जाती है। एवोकाडो में कैलरी की मात्रा अधिक होने के कारण भी कई लोग इसको खाने से बचते हैं। इसका जरूरत से ज्यादा सेवन करने से उल्टी, मतली, जी मिचलाने, पेट खराब होने जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। इसलिए बेहतर है कि इसका कम मात्रा में सेवन करें और यदि किसी भी तरह की शंका में हो, तो किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें।

(एक्शन कैंसर हॉस्पिटल की वरिष्ठ आहार विशेषज्ञ शिखा कौशिक व नारायणा सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. सतीश कौल से की गई बातचीत पर आधारित)



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!