अस्पताल पर की गई कार्यवाही, आईसीयू वार्ड किया गया शील।

3 अगस्त 2019

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । शहर का नामचीन अस्पताल पंडित मैकू लाल वीरेंद्र नाथ सुपर स्पेशलिस्ट हास्पिटल का एक मामले के सम्बंध में डाक्टर का प्रकरण जनता के सामने खुलकर आया था। पीड़ित द्वारा चिकित्सक पर लाश का इलाज करने का आरोप लगाया गया था।
जहां इस मामले का खुलासा मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के माध्यम से पता चला है। बताते चलें कि जून माह में जनपद के पूरनपुर तहसील क्षेत्र में गांव सिकराना के घायल युवक राजू को परिजन उपचार के लिए जनपद के पंडित मैंकूलाल अस्पताल में भर्ती कराया गया।

8 जून को उसका हायर सेंटर के लिए रेफर बनाने के साथ मरीज की मौत होने का भी आरोप लगाया गया था। क्योंकि मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया, तब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टर ने 12 से 24 घंटे पहले ही मरीज की मौत होना दर्शाया गया। वही मृतक की पत्नी शारदा देवी ने जिलाधिकारी और सीएम से इस मामले की शिकायत की गई थी । मामले को गम्भीरता पूर्वक लेते हुए जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव द्वारा सीएमओ को जांच कराने के लिए निर्देश दिए गए।

वही प्राप्त सूत्र बताते हैं कि डीएम द्वारा बताया गया है कि है। जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने के पश्चात ही अस्पताल के खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। इधर सीएमओ डॉ सीमा अग्रवाल द्वारा तीन सदस्यीय समिति गठित कर जांच शुरू कर दी गई थी ।

जहां जाँच में आया कि अस्पताल चला रहे डॉक्टर की डिग्री भी फर्जी निकली । वही प्रशासन ने लाश का इलाज करने वाले को दोषी ठहराया गया और अस्पताल का आईसीयू वार्ड शील किया गया है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!