आखिरकार पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस देने के लिए हुआ तैयार

01 अगस्त 2019

आखिरकार कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को झुकना पड़ा है । पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस यानी राजनयिक मदद देने के लिए तैयार हो गया है । पाक मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक कल यानी शुक्रवार को पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस मुहैया कराएगा. जेल में बंद जाधव से मिलने के लिए कल दोपहर 3 बजे भारतीय अधिकारी को बुलाय़ा गया है । भारत इस प्रस्ताव पर विचार करेगा । कुलभूषण जाधव मामले में इसे भारत की बड़ी जीत माना जा रहा है ।

इससे पहले, नीदरलैंड के हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्याय न्यायालय (आईसीजे) में कुलभूषण जाधव मामले में भारत की बड़ी जीत हुई। अदालत ने पाकिस्तान से कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को दी गई मौत की सजा की समीक्षा करे। इसके साथ ही आईसीजे ने जाधव तक राजनयिक पहुंच दिए जाने की भारत की मांग के पक्ष में फैसला सुनाया।

यह जानकारी आज पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने दी । फैसल ने साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यहां भारतीय उच्चायोग को सूचित करने के बाद पाकिस्तान भारत के जवाब का इंतजार कर रहा है. ऐसा उसने आईसीजे (इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस) के 17 जुलाई को आए आदेश के मुताबिक किया है. आईसीजे के 17 जुलाई के आदेश के दो हफ्ते बाद पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है। आईसीजे ने पाकिस्तान को जाधव की सजा की ‘‘प्रभावी समीक्षा और पुनर्विचार’’ करने के लिए कहा था । अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान को यह भी निर्देश दिया था कि वह जाधव तक भारत को अविलंब राजनयिक पहुंच दे ।

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है कि पाकिस्तान की तरफ से कुलभूषण को काउंसलर एक्सेस देने को लेकर प्रस्ताव आया है. उसको लेकर हम आईसीजे के फैसले के मुताबिक विचार कर रहे हैं और उसके बाद हम राजनयिक माध्यम से उनको जवाब देगें और समय के अंदर देंगे।

17 जुलाई 2019 को आईसीजे ने 3 साल से पाकिस्तानी जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाते हुए कहा था कि पाकिस्तान को उन्हें काउंसलर एक्सेस मुहैया कराना होगा । इसके बाद 19 जुलाई को पाकिस्तान की ओर से बयान आया था कि वो जाधव को राजनयिक मदद देने के लिए तैयार है । इस दिन पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के फैसले पर अमल की बात कही ।

इसे भारत की बड़ी जीत माना जा रहा है क्योंकि भारत ने अदालत में पाकिस्तान के खिलाफ केस दर्ज करने से पहले भी करीब 13 बार पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव के लिए काउंसलर संपर्क की इजाजत मांगी थी। लेकिन भारत के बार-बार आग्रह के बावजूद पाकिस्तान ने इसकी इजाजत नहीं दी । यहां तक कि बीते तीन सालों में अब तक भारत करीब 30 बार जाधव के काउंसलर सम्पर्क के लिए पाकिस्तान को आग्रह कर चुका है लेकिन पाकिस्तान नहीं माना ।

गौरतलब है कि पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत द्वारा जाधव की मौत की सजा सुनाए जाने के मामले में भारत ने आईसीजे को चुनौती दी थी। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में बंद कमरे में सुनवाई के बाद जासूसी और आतंकवाद के आरोपों में भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को मौत की सजा सुनाई थी। उनकी सजा पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!