उन्नाव रेप पीड़िता के कार हादसे मामले में यूपी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की

29 जुलाई 2019

फाइल फोटो

उन्नाव रेप पीड़िता के कार हादसे मामले में यूपी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है । पीड़िता के चाचा की तरफ से दर्ज हुई एफआईआर के बाद सीबीआई जांच की कवायद तेज कर दी गई थी । पीड़िता के चाचा ने जेल में ही उनसे मिलने गईं डीएम नेहा शर्मा को सीबीआई की जांच के लिए तहरीर लिख कर दी थी, डीएम ने लखनऊ भेजा था ।

बहरहाल, सड़क हादसे का शिकार हुई उन्नाव की रेप पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है ।लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि एक्सिडेंट के कारण उसके फेफड़ों में चोट लगी है । कुछ समय के लिए पीड़िता को वेंटिलेटर पर रखा गया था । उसका ब्लड प्रेशर गिर रहा है।इसके अलावा पीड़िता के दाहिने कॉलर की हड्डी, दाईं ओर की कुछ पसलियां, दाहिने हाथ और दाहिने पैर में फ्रैक्चर है ।

इससे पहले उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने कहा कि अगर पीड़िता की मां और अन्य कोई रिश्तेदार आग्रह करता है तो राज्य सरकार रविवार को रायबरेली में हुई दुर्घटना की सीबीआई जांच कराने को तैयार है ।

हालांकि रायबरेली के थाना माखी के पास उन्नाव रेप पीड़िता की कार दुर्घटना के मामले को लेकर सोमवार को लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्ण ने प्रेस कॉफ्रेंस की। इसमें उन्होंने कहा है कि पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ट्रक के मालिक, चालक और क्लीनर को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों ही गाड़ियों की फॉरेंसिक जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद हम सीबीआई जांच की सिफारिश करेंगे।

बतादें कि उन्नाव गैंगरेप केस में आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुश्किलें अब और बढ़ गई हैं। रायबरेली के गुरबख्शगंज में एक ट्रक के पीड़िता की कार को टक्कर मारने के मामले में उनके खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास और आपराधिक साजिश जैसी कई धाराओं में केस दर्ज किया गया है। रविवार को कार के ट्रक की चपेट में आने के चलते दो लोगों की मौत हो गई थी, जबकि पीड़िता गंभीर रूप से घायल है और अस्पताल में इलाज चल रहा है। कार के ट्रक की चपेट में आने को लेकर विपक्ष का कहना है कि यह हादसा नहीं बल्कि एक साजिश है। भारी दबाव के बाद प्रशासन ने अब इस मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत 10 लोगों के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, आपराधिक साजिश जैसी कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। इसके अलावा 15 से 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है।

क्या है पूरा मामला?

बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की, उसकी चाची और मौसी अपने वकील महेंद्र के साथ रायबरेली जेल में बंद अपने रिश्तेदार से रविवार को मुलाकात करने जा रही थी । रास्ते में रायबरेली के गुरबख्श गंज क्षेत्र में उनकी कार और एक ट्रक के बीच संदिग्ध परिस्थितियों में टक्कर हो गयी थी. इस हादसे में चाची और मौसी ने दम तोड़ दिया था ।

घायल वकील और पीड़ित की हालत बेहद नाजुक है और वह ट्रामा सेंटर में वेंटिलेटर पर हैं. किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल लखनऊ के मीडिया इंचार्ज संदीप तिवारी ने कहा, ”लड़की और वकील दोनों वेंटिलेटर पर हैं और दोनों की हालत गंभीर है. लड़की के पांव टूट गए हैं और सर में चोट है.”

पीड़ित लड़की ने साल 2017 में उन्नाव से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप आरोप लगाया था । इस मामले में सेंगर को गिरफ्तार किया गया था ।इससे पहले लड़की की शिकायत के बावजूद पुलिस काफी दिनों तक एफआईआर दर्ज करने से कतराती रही । लड़की ने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्महत्या की कोशिश की. जिसके बाद पुलिस ने उसके पिता को हिरासत में लिया । पीड़ित का दावा है कि कुलदीप सेंगर के समर्थकों की पिटाई से पिता की मौत हो गई । बाद में एक मुख्य गवाह की भी संदिग्ध मौत हो गई।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!