भारत और रूस के बीच R-27 मिसाइलों को खरीदने के लिए हुआ समझौता

29 जुलाई 2019

भारतीय वायु सेना ने रूस से 1500 करोड़ रुपये की R-27 मिसाइलों को खरीदने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है । इस मिसाइल का वजन 253 किलो है । R-27 को 60 किमी की रेंज तक 25 किमी की ऊंचाई से लॉन्च किया जा सकता है ।

हाल के दिनों में भारत और रूस के बीच ये दूसरी बड़ी डील है ।इससे पहले भारत ने रूस के साथ 200 करोड़ की एंटी टैंक मिसाइल डील पर हस्ताक्षर किया था । इस एंटी टैंक मिसाइल को Mi-35 अटैक चॉपर के साथ जोड़ा जाएगा ।

सूत्रों ने बताया- रूस की ये मिसाइलें हवा से हवा में मार करने में सक्षम हैं। इनके सुखोई में लगने के बाद उसकी क्षमता और बढ़ जाएगी। भारतीय सेना दूर से ही दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को मार सकेगी। आर-27 मध्यम से लंबी दूरी की मिसाइल है। इसे रूस ने खासतौर पर मिग और सुखोई जैसे लड़ाकू विमानों के लिए बनाया है।

7600 करोड़ रु. तक के सौदों पर हस्ताक्षर

पिछले 50 दिनों में भारतीय वायु सेनाने आपातकालीन जरूरतों के तहत हथियार खरीदने के लिए कई सौदों पर हस्ताक्षर किए।आईएएफ ने स्पाइस-2000, स्ट्रम अटका एटीजीएम जैसीमिसाइलों को प्राप्त करने के लिए लगभग 7,600 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। इससे पहले जून में भारत और रूस के बीचएंटी-टैंक मिसाइल ‘स्ट्रम अटाका’ खरीदने के लिए 200 करोड़ रुपए का समझौता हुआ था। इन मिसाइलों को एमआई-35 हेलिकॉप्टर में लगायाजाएगा।

सरकार से सेना को मिली शक्तियां

सूत्र ने यह भी बताया कि 14 फरवरी को कश्मीर केपुलवामा में हुएहमले के कुछ दिनों के बाद ही तीनों सेनाओं को आपातकालीन शक्तियां दी गई थीं। इसके तहत सेना अपनीजरूरत के हिसाब से तीन महीनों में300 करोड़ रुपए के हथियार खरीद सकती है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!