कांग्रेस ने उभ्भा नरसंहार पीड़ितों से की मुलाकात, मृतकों को 10-10 लाख व घायलों को 1-1 लाख का दिया चेक

27 जुलाई 2019

राजकुमार गुप्ता (संवाददाता)

घोरावल । घोरावल तहसील अंतर्गत उभ्भा गांव में गत 17 जुलाई को जमीन विवाद को लेकर हुए नरसंहार में 10 अदिवासियों की हत्या और 28 लोगों के घायल होने के बाद देश की राजनीति को हिला कर रख दिया था ।

घटना के बाद सबसे पहले कांग्रेस ने इस घटना को लेकर सक्रियता दिखाई और सरकार को घेरते हुए एक दिन बाद एक टीम घटना स्थल व जिला अस्पताल के लिए रवाना कर दिया । घटना की रिपोर्ट आते ही कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने बिना देर किया सोनभद्र का दौरा बना लिया । वाराणसी में उन्होंने सबसे पहले ट्रामा सेंटर जाकर गम्भीर रूप से घायल लोगों से मुलाकात की । इसके बाद अचानक सियासत भी तेज हो गयी ।

जिलाधिकारी सोनभद्र ने अचानक सोनभद्र में धारा 144 लगा दिया और राजनीतिक दलों समेत विशिष्ट लोगों के लिए घटना स्थल समेत जिले में प्रवेश पर रोक लगा दी । जिज़के बाद प्रियंका को अचानक मिर्जापुर जनपद के नारायणपुर में रोक दिया गया । प्रशासन की सख्ती को लेकर प्रियंका गांधी ने यह कहते हुए धरने पर बैठ गयी कि आखिर उन्हें क्यों रोका गया और किस कानून व नियम के तहत रोका गया । मिर्जापुर प्रशासन ने प्रियंका को आगे जाने से साफ मना कर दिया । जिसके बाद उन्हें हिरासत में लेकर चुनार गेस्टहाउस में रख दिया । हिरासत में लिए जाने के बाद पूरे देश में कांग्रेसी सड़क पर उतर कर विरोध करने लगे और देखते ही देखते सियासत और तेज हो गयी। प्रियंका के बाद अन्य सियासी कदम को रोकने के लिए शासन ने मिर्जापुर और भदोही में भी धारा 144 लगा दिया । प्रियंका गांधी भी सियासत को भांपते हुए जिद पर उतर गई कि जेल जाने को तैयार हैं मगर सोनभद्र में पीड़ितों से मिले बिना वे वापस नहीं जाएगी । पंचायत सुलझ नहीं पाया और प्रियंका ने रात गेस्ट हाउस में रुकने का फैसला किया । बिना बिजली के गेस्टहाउस में रात प्रियंका ने कार्यकार्याओं के साथ बातचीत कर रात गुजारी । सुबह प्रशासन को मजबूर कर दिया कि वे पीड़ितों से बिना मिले नहीं जाएंगी। प्रशासन ने प्रियंका से बातचीत कर बीच का रास्ता निकाला और कुछ नरसंहार पीड़ितों को बुलाकर गेस्टहाउस में मुलाकात कराई । प्रियंका गांधी ने पीड़ितों से मिलकर सभी मृतक परिवारों को 10 – 10 लाख रुपए और गंभीर रूप से घायलों को एक – एक लाख रुपये देने की घोषणा की थी । उस समय प्रियंका गांधी की यह घोषणा सियासत के रूप में लिया जा रहा था ।

माना जा रहा था कि नेता ऐसे समय पर बड़ी-बड़ी घोषणाएं कर देते हैं जो बाद में पूरा नहीं होता । लेकिन आज कांग्रेस ने अपना वादा पूरा करते हुए घोरावल के उभ्भा गांव में एक दल को भेजकर सभी मृतक परिजनों से मुलाकात कर उन्हें 10-10 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों को एक – एक लाख रुपये का चेक दिया ।

पत्रकारों से वार्ता करते हुए बाजी राव खाड़े ने कहा कि हमारा मकसद नरसंहार में मारे गए परिवार की मदद करना है तथा ग्रामीणों के दुःख दर्द को बांटना है। कांग्रेस पार्टी हमेशा से ही सभी वर्ग के लोगों, शोषितों, वंचितों के साथ खड़ी रही है । प्रियंकागांधी जी भी उभ्भा गांव में 17 जुलाई को जमीनी विवाद में मारे गए गोंड़ जाति के परिजनों से मुलाक़ात करने आ रही थीं लेकिन मुख्यमंत्री के निर्देश पर उन्हें जबरन रोका गया । जिसके चलते क़रीब के चुनार किले में उन्हें रात गुज़ारनी पड़ी। उन्होंने सोचा था कि शायद योगी सरकार को दया आ जाये लेकिन इस गूंगी बहरी सरकार ने एक न सुनी इसके बावजूद उन्होंने पीड़ितो की मदद के लिए हम कांग्रेस जनों को उभ्भा गांव में आज भेजा है और जल्द ही प्रियंका जी भी आएंगी।

इस दौरान यूथ कांग्रेस के रावर्ट्सगंज लोक सभा प्रभारी आशुतोष दुबे ने कहा कि कांग्रेस ने पीड़ित परिवारों से जो वादा किया था वह पूरा किया गया। कांग्रेस जुमले वाली पार्टी नहीं है । जो कहती है उसे पूरा करती है । उन्होंने कहा कि आगे भी कांग्रेस पार्टी परिवारों के साथ है ।

इस दौरान मुख्य रूप से आने वालों में राष्ट्रीय सचिव बाजीराव खड़े, राष्ट्रीय सदस्य राम अवध यादव, पूर्व सांसद राजेश मिश्रा, पूर्व विधायक अजय राय, पूर्व विधायक ललितेश पति त्रिपाठी , प्रदेश महासचिव यूथ कांग्रेस सतीश मिश्र, जिलाध्यक्ष अरुण सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष नामवर कुसवाहा, मनोज मिश्रा, अखिलेश पांडेय, श्रीकांत, संजय दुबे, अनिल चौबे आदि मौजूद रहे।

जिन्हें मिला 10 लाख का चेक

मृतक राजेश (35) पुत्र गोविंद की पत्नी प्रतिभा देवी, अशोक(35) पुत्र नन्हकू की पत्नी लालदेई, रामधारी (60) पुत्र हीरा शाह की पत्नी अतवारी देवी, दुर्गावती (35) के दो पुत्रों चंद्रबहादुर व मान सिंह, सुखवंती (40) के पति रामनाथ, रामसुंदर(50) पुत्र तेजा सिंह की पत्नी सितवा देवी, जवाहिर (48) पुत्र जयकरन की पत्नी सुकुवरिया, बसमतिया (45) के पति नंदलाल, रामचंदर (50) पुत्र लालसाहब के पुत्रगण शिवकुमार व राजकुमार, 15 वर्षीया नाबालिग पुत्री ललिता और अशोक (34) पुत्र हरिवंश की पत्नी पुष्पा देवी


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!