बाघिन के हमले से गुस्साए लोगों ने बाघिन को किया अधमरा

25 जुलाई 2019
दीनदयाल शास्त्री ब्यूरो

इलाज के अभाव में बाघिन तोड़ दम

पीलीभीत। टाइगर रिजर्व के जंगल में आये दिन जंगल के नजदीक के गांवों में बाघ के आक्रमण होने के कई मामले सामने आ चुके हैं।
वही बाघ के हमलों में कई लोगों को निवाला भी बनाया जा चुका है।
परन्तु कोई रोकथाम नजर नहीं आ रही है।
आपको बताते चलें कि एक तो वन विभाग द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।
ताकि मानव और जंगली जानवरों के बीच के संघर्ष को समाप्त किया जा सके।
क्योंकि आज फिर से मानव और जंगली जानवरों की बीच संघर्ष शुरू हो गया है।
वही प्राप्त सूत्रों से पता चला है कि जनपद के टाइगर रिजर्व की दियूरिया वन रेंज से निकलकर आबादी क्षेत्र में आई एक बाघिन ने ग्रामीणों पर हमला कर दिया।

वही इस हमले में करीव दस ग्रामीणों के घायल होने की बात बताई जा रही है।
बाघिन के हमले से गुस्साए ग्रामीणों ने भी लाठी डंडों से पीट पीट कर जंगली जानवर को अधमरा कर दिया। वन विभाग की टीम बाघिन को ट्रेंकुलाइज करके इलाज करने में पूरी तरह विफल साबित हुई।
जिसके कारण देर रात इलाज के आभाव में बाघिन की मौत हो गई।
कयास लगाया जा रहा है कि अगर समय से उपचार मिल जाता तो बाघिन की जान बचाई जा सकती थी।
वनाधिकारियों ने बाघिन के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!