घोरावल नरसंहार मामला : जिला अस्पताल में भर्ती घायलों की दुर्दशा, लचर व्यवस्थाओं की खुली पोल

18 जुलाई 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

– दो दिन से घायलों के अंग में पड़े है छर्रे

– डॉक्टर आजकल का बहाना बना घायलों को दे रहे हैं आश्वासन

– जनपद न्यूज़ लाइव की पड़ताल में सामने आया मामला

– दर्द से कराह रहे घायलों को नहीं आ रही रात में नींद

सोनभद्र । देश के 115 जनपदों में शामिल जनपद सोनभद्र नीति आयोग में शामिल है। नीति आयोग को सीधे प्रधानमंत्री देखते हैं। प्रदेश स्तर पर सीएम इसकी समीक्षा करते है। शिक्षा व स्वास्थ्य सहित 9 बिंदुओं को नीति आयोग में शामिल किया गया है लेकिन हम आपको सोनभद्र में स्वास्थ्य सेवाओं का हाल बताएंगे कि पिछड़े जनपद में जिला अस्पताल का क्या हाल है। जब भी कोई बड़ी घटना घट जाती है तो जिला अस्पताल का हाल बेहाल हो जाता है और ज
घोरावल थाना क्षेत्र के मूर्तिया ग्राम पंचायत के उभ्भा गांव में जमीनी विवाद को लेकर हुए नरसंहार में 10 लोगों की हत्या कर दी गयी थी जबकि 25 लोग घायल थे, जिनमें से कुछ वाराणसी ट्रामा सेंटर भेजे गए और कई को जिला अस्पताल में ही इलाज के लिए रखा गया, जहां जनपद न्यूज़ लाइव की टीम ने रात में जाकर घायलों के इलाज को लेकर पड़ताल की।

पड़ताल के दौरान जिला अस्पताल में घोरावल थाना क्षेत्र में जमीनी विवाद में घायल बेड पर बैठे और दर्द से कराहते मिले लेकिन जिला अस्पताल में दुर्व्यवस्था के शिकार इन घायलों को नींद नहीं आ रही थी, पूछने पर बताया कि शरीर में छर्रे लगे हैं, जो दर्द कर रहा है, दो दिन बीत गए डॉक्टर आज-कल कह रहे हैं। जब इस पूरे मामले पर जिला अस्पताल का कोई भी डॉक्टर या स्टाफ कुछ भी बोलने को तैयार नहीं।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!