श्री हंस सत्संग मंदिर रवि नगर के तत्वाधान में मनाया गया गुरु पूजा

16 जुलाई 2019

संतोष शर्मा (संवाददाता)

पीडीडीयू नगर । मानव उत्थान सेवा समिति श्री हंस सत्संग मंदिर रवि नगर के तत्वाधान में गुरु पूजा मनाया गया मानव धर्म के प्रणेता श्रद्धेय श्री सतपाल जी महाराज के शिष्य महात्मा राम देवानंद, महात्मा रंजना नंद, महात्मा द्वेता बाई, सौम्या बाई, पूजा बाई ने अपने मुखारविंद से गुरु महाराज के महत्व को बड़े अच्छे से समझाया और बताया कि
माला फेरत जुग गया पाया न मन का फेर।

कर का मणका डारि दे मन का मणका फेर।।

इसका अर्थ आजकल के गुरु यह बतलाते हैं की माला फेरते फेरते बहुत समय हो गया है। बच्चा अब हाथ की माला को तो रख दे और मन को विषयों की ओर से पहले फेर ले। लड़का यह पूछता ही नहीं कि विषय किस शब्द का अर्थ लगाया है? अर्थ तो सीधा साधा यह है कि माला फेरते फेरते बहुत युग अर्थात बहुत जन्म बीत गए अब इस हाथ की माला को तो रखदे और मन की माला के मणके को फेर ।पर जब उस मन के मणके की माला (मन की माला) का पता हो तभी तो आजकल के गुरु रह बर या मास्टर बताएं। शर्त यह है कि पुछने वाले के मन में मान नहीं होना चाहिए। इसलिए अब ऐसे गुरु की तलाश करो जो उस अंदर की माला के मणके को बता देवे। हमारा मतलब यह नहीं कि आप हम से ही पूछो। पर पूछो पूछने का ऐसा समय फिर नहीं मिलेगा। जहां से भी वह चीज प्राप्त हो वहीं से उस चीज को प्राप्त करना चाहिए। यही प्रत्येक मनुष्य का कर्तव्य है। सोमवार की देर शाम तक गुरु पूजा का कार्यक्रम चलता रहा जिसमें दूरदराज से आय भक्तगण सत्संग भजन एवं भंडारा का आनंद उठाते रहे।

जिसमें मुख्य रूप से संजय पाल, बचाऊ, रामकिशुन यादव, सत्य नारायण यादव, शिवधनी यादव, मनोज कुमार, रमेश यादव, गायक राम भरोसे यादव, सनोज यादव, मनोज यादव, माया देवी आदि लोग मौजूद थे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!