ग्राम समाज की भूमि कब्जे के मामले में उच्च न्यायालय के आदेश पर लगा प्रतिबन्ध

विवेक मिश्रा (संवाददाता)

शाहगंज। ग्राम समाज के खलिहान की भूमि पर काबिज पूर्व ग्राम प्रधान को काफी महंगा साबित हुआ।यह प्रक्रिया तब हरकत में आई जब शिकायतकर्ता छोटेलाल भारती ने उच्च न्यायालय में जाकर शरण ली।हालांकि उच्च न्यायालय के स्पष्ट आदेश है, तालाब के भीटे पर खलिहान की जमीन पर, वर्ग 6 की जमीन पर ,अतिक्रमण प्रतिबंधित है ,बावजूद इसके नियमों की अनदेखी करते हुए तत्कालीन ग्राम प्रधान द्वारा खलिहान की जमीन पर कब्जा कर लिया गया ,और ऐसा नहीं है कि इस मामले को प्रशासन के लोगों को जानकारी नहीं था ,मगर शिकायतकर्ता को तमाम प्रकार के उत्पीड़न, धमकी ,गुंडा एक्ट, आदि प्रक्रियाओं से भी होकर गुजरना पड़ा ,मगर छोटेलाल भारती ने हार नहीं मानी। अंततः उच्च न्यायालय के आदेश के क्रम में जिलाधिकारी सोनभद्र द्वारा तहसील प्रशासन को यह आदेशित करते हुए कहा गया कि हाईकोर्ट के आदेशों का अनुपालन किया जाए।

तहसीलदार घोरावल सुरेश चंद्र शुक्ला ने मौके पर जाकर ग्राम पंचायत सहुआर का निरीक्षण करते हुए अतिक्रमण कारी को तत्काल खलिहान की जमीन को खाली को कहां ,और उन्होंने यह बताया कि उक्त स्थल अतिक्रमण कारी द्वारा जमीन खाली करवाई जा रही है ।तहसीलदार श्री शुक्ला के साथ राजस्व कर्मी अजय विक्रम सिंह, मनीष सिंह ,शामिल रहे

हालांकि शिकायतकर्ता छोटेलाल भारती ने बताया कि अभी भी प्रशासन की सुस्ती के कारण उक्त स्थल पर कब्जा बरकरार है।
अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!